18वें एशियन गेम्स का जकार्ता में रंगारंग उद्घाटन

जकार्ता के गेलोरा बुंग करोना मुख्य स्टेडियम में 18वें एशियाई खेलों Panchayat Times
18वें एशियन गेम्स के उदघाटन समारोह में मार्च पास्ट करता भारतीय दल

नई दिल्ली. इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता के गेलोरा बुंग करोना मुख्य स्टेडियम में 18वें एशियाई खेलों का रंगारंग शुभारंभ हुआ. भारतीय समयानुसार शाम साढ़े पांच बजे उद्धाटन समारोह हुआ. 18 अगस्त से 2 सितम्बर तक चलने होने वाले खेलों के इस कुंभ में हरियाणा के जैवलिन थ्रो स्टार खिलाड़ी नीरज चोपड़ा भारतीय टीम के ध्वजवाहक बने.

राष्ट्रपति जोको विदोदो मोटरसाइकिल चलाकर स्टेडियम पहुंचे. इस दौरान 1500 महिला कलाकारों ने देश का पारंपरिक नृत्य प्रस्तुत किया. अफगानिस्तान के खिलाडिय़ों ने सबसे पहले मार्च पास्ट किया. भारतीय खिलाडिय़ों के दल ने 9वें नंबर पर मार्च पास्ट किया.

इस अवसर पर इस टूर्नामेंट में भाग ले रहे 45 देशों के हजारों खिलाड़ी भी उपस्थित रहे. इस समारोह का यादगार बनाने के लिए इंडोनेशिया के बड़े सिंगर अंगगुन, रेसा, इडो, फातिन और विया परफॉर्म किया. इस पूरे कार्यक्रम के दौरान इंडोनेशिया की संस्कृति की झलक देखने को मिली.

इस बार के एशियन गेम्स का ध्येय वाक्य ”एशिया की उर्जा” है. एशियाई खेलों में पदकों के लिहाज़ से अब तक चीन का वर्चस्व रहा है. भारत ने इस बार इन खेलों में अपना सबसे बड़ा दल भेजा है.

चार साल पहले 2014 में साउथ कोरिया के इंचियोन में आयोजित पिछले 17वें एशियन गेम्स में भारतीय दल का नेतृत्व हॉकी कप्तान सरदारा सिंह ने किया था. उस टूर्नामेंट ने भारत ने 11 स्वर्ण, 10 सिल्वर और 36 कांस्य पदक सहित 57 पदक अपने नाम किए थे. अब देखना होगा कि इस बार भारतीय खिलाड़ी क्या कमाल कर पाते हैं.

यह भी पढ़ें: कभी भाला खरीदने के नहीं थे पैसे, वही खिलाड़ी एशियन गेम्स में भारत की सबसे बड़ी उम्मीद

सर्च इंजन गूगल ने शनिवार को 18वें एशियाई खेलों की शुरुआत का जश्न मनाते हुए रंग-बिरंगा डूडल बनाया है. एशिया की ओलम्पिक परिषद द्वारा आयोजित एशियाई खेल ओलम्पिक के बाद दूसरी सबसे बड़ी खेल स्पर्धा है, जिसका आयोजन हर चार साल में होता है. ऐसा पहली बार है जब एशियाई खेल दो नगरों जकार्ता (जो कि पूर्व में 1962 एशियाई खेलों का आयोजन कर चुका है) और दक्षिण सुमात्रा प्रान्त की राजधानी पालेमबांग में आयोजित हो रहे हैं. इसके अतिरिक्त आयोजन स्थल दोनों नगरों के समीप स्थित बानदुंग और बांतेन में भी हैं.

भिन-भिन, अतुंग और काका हैं शुभंकर:

18वें एशियाई खेलों में इस बार तीन शुभंकर भिन-भिन, अतुंग और काका हैं. भिन-भिन इंडोनेशिया के पूर्वी भाग में अधिकत पाए जाने वाली सुंदर पंखों वाली पक्षी को भिन-भिन का नाम देकर शुभंकर बनाया गया है. इस पक्षी को स्वर्ग की चिड़िया भी कहा जाता है.

अतुंग 18वें एशियन गेम्स का दूसरा शुभंकर अतुंग इंडोनेशिया के इस्ट जावा क्षेत्र में पाए जाने वाले दुनिया के सबसे दुर्लभ हिरणों में से एक है. यह प्रजाति खतरे में बताई जा रही है, जिसको संरक्षित करने के लिए इसे शुभंकर बनाया गया है.

काका एशियन गेम्स का तीसरा शुभंकर इंडोनिशया के जावा क्षेत्र में पाए जाने वाले एक सिंग वाले गेंडा को बनाया गया है. इसका नाम काका रखा गया है. यह भी एक दुलर्भ प्रजाति का गेंडा है जिसका अस्तित्व खतरे में है. माना जा रहा है कि पूरी दुनिया में इस प्रजाति के 60 से लेकर 68 गेंडा ही बचे हैं. भिन-भिन, अतुंग और काका, ये तीनों देश के पूर्वी, पश्चिमी और मध्य क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं.

जकार्ता इंडोनेशिया की राजधानी और सबसे बड़ा शहर:

जकार्ता इंडोनेशिया की राजधानी और सबसे बड़ा शहर है. जकार्ता जावा के उत्तर-पश्चिमी तट पर स्थित है. इसका कुल क्षेत्रफल 669 किलोमीटर है. जकार्ता देश का आर्थिक, सांस्कृतिक एवं राजनीतिक केंद्र है. जकार्ता जनसंख्या के मामले में इंडोनेशिया एवं दक्षिण-पूर्वी एशिया में प्रथम एवं विश्व में दसवें स्थान पर है. जकार्ता की स्थापना चौथी शताब्दी में हुई और यह एक महत्वपूर्ण व्यापारिक बंदरगाह बन गया. जकार्ता डच ईस्ट इंडीज़ की राजधानी था और 1945 में स्वतंत्रता मिलने के बाद भी यह इंडोनेशिया की राजधानी बना रहा.

पालेमबांग इण्डोनेशियाई प्रान्त दक्षिण सुमात्रा की राजधानी है. यह नगर 369.22 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है. यह मूसी नदी के तट पर दक्षिणी सुमात्रा के पूर्वी छोर पर स्थित है.