हिमाचल में 405 नई पंचायतों का गठन, दिसंबर तक पंचायत चुनाव संभावित

हिमाचल में 405 नई पंचायतों का गठन, दिसंबर तक पंचायत चुनाव संभावित - Panchayat Times
For representational purpose only

शिमला. कोरोना संकट के बीच हिमाचल में इस साल पंचायत और नगर निकाय चुनाव होने वाले हैं. उससे पहले नई पंचायतों के गठन के अलावा नगर पंचायत, नगर परिषद और नगर निगम बनाने की प्रक्रिया शुरू की गई है.

राज्य में 2005 के बाद यह पहला मौका है जब नई पंचायतों का गठन हुआ है। गठन की प्रक्रिया होने के बाद अब पुनर्सीमांकन की प्रक्रिया को अंतिम रूप दिया जा रहा है. इस बार हुए पुनर्गठन में 405 नई पंचायतें बनी हैं, जबकि 2005 में 206 नई पंचायतें बनी थीं.

एक पंचायत के गठन पर 50 लाख खर्च

नई पंचायतों के लिए अब पंचायत घर की भी जरूरत पड़ेगी और फर्नीचर भी लाना होगा. इसके अलावा स्टाफ की भी तैनाती होगी जिसमें पंचायत सचिव, ग्राम रोजगार सेवक, जेई सहित चौकीदार के पद भी भरे जाएंगे.

ऐसे में हर पंचायत के लिए 50 लाख रूपये खर्च होने का अनुमान है. पंचायती राज एंव ग्रामीण विकास मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि लोगों की इच्छा थी कि नई पंचायतें बनें. क्योंकि कई स्थानों पर लोगों को मीलों दूर चलके पंचायत घर तक पहुंचना पड़ता था.

तीन अक्तूबर को जारी होगा मतदाता सूचियों का ड्राफ्ट

पंचायती राज एवं शहरी निकाय चुनावों के मद्देनजर इन दिनों मतदाता सूचियों को बनाने का काम भी जोरों पर चल रहा है. राज्य चुनाव आयोग के अनुसार 3 अक्तूबर से मतदाता सूचियों में मतदाता अपना नाम देख सकेंगे.

इसके बाद 5 अक्तूबर से 14 अक्तूबर तक दावे और आक्षेप देने का समय निर्धारित किया गया है. सात दिन के भीत्तर अपने दावे संबंधित अधिकारी के समक्ष दे सकते हैं. इसके बाद पांच नवंबर तक अंतिम मतदाता सूची का प्रकाशन कर दिया जाएगा.