हिमाचल में बर्फबारी के कारण 429 सड़कें बंद, एचआरटीसी के 290 रूट प्रभावित

अनलॉक में घाटे में चल रही एचआरटीसी, कमाई में आई भारी कमी - Panchayat Times
प्रतीक चित्र

शिमला. हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी के बाद मौसम खुलने पर भी दुश्वारियां कम नहीं हुई हैं. पहाड़ी इलाकों में सैंकड़ों अवरुद्व सड़कें अभी भी बहाल नहीं हो पाई हैं. राज्य में गुरूवार को चार राष्ट्रीय राजमार्गों सहित 429 सड़कों पर वाहनों की आवाजाही ठप रही. बर्फबारी से शिमला का ऊपरी इलाका सबसे ज्यादा प्रभावित है. लगातार तीसरे दिन अप्पर शिमला के विभिन्न क्षेत्र राज्य मुख्यालय से संपर्क कटे रहे. एचआरटीसी के शिमला डिविजन में 290 रूट प्रभावित रहे. बर्फबारी वाले इलाकों में एचआरटीसी की 32 बसें फंसी हुई हैं. 


लोक निर्माण विभाग के कर्मचारी जेसीबी की मदद से सड़कों पर पड़ी बर्फ को हटाने का भरसक प्रयास कर रहे हैं और बीते 24 घंटों के दौरान 300 से अधिक सड़कों को बहाल कर लिया गया. अप्पर शिमला में ज्यादा बर्फ होने के चलते सड़कों पर से पूरी तरह से बर्फ नहीं हटाया जा सका तथा लंबे समय से सड़कें बंद होने से लोगों को भारी परेशानी होने लगी है.

लोक निर्माण विभाग ने कहा है कि शिमला जोन में 299 सड़कें बर्फबारी की वजह से बंद हैं. इनमें रामपुर की 125, रोहड़ू की 123 और शिमला सर्कल की 43 सड़कें शामिल हैं. नाहन सर्कल की 8 सड़कों पर भी आवाजाही बाधित है. कांगड़ा जोन में 76 सड़कें अवरूद्व हैं. इनमें अकेले डल्हौजी की 74 सड़कें सम्मिलत हैं. जबकि पालमपुर में 2 सड़कें बंद हैं. मंडी जोन में 50 सड़कें बंद पड़ी हैं. इनमें कुल्लू की 39 और मंडी की 11 सड़कें हैं. सड़कों को खोलने के लिए विभाग ने 273 मशीनरी तैनात की है. इनमें 242 जेसीबी, 23 टिप्पर और 8 डोजर शामिल हैं. बर्फबारी से सड़कों को 164 करोड़ के नुकसान का अनुमान है.