50 वर्षीय किसान ने की आत्महत्या, कृषि मंत्री ने दिये जांच के आदेश

गुमला. बसिया थाना क्षेत्र के ससिया गांव निवासी 50 वर्षीय किसान दिग्विजय कुमार के आत्महत्या के मामले को कृषि पशुपालन सहकारिता मंत्री बादल ने गंभीरता से लिया है. मंत्री के निर्देश के बाद गुमला डीसी शशिरंजन जिला प्रशासन की टीम के साथ मृतक किसान के घर पहुंचे और जानकारी ली.

पत्नी देवंती देवी ने बताया कि पति मंगलवार को लगभग 12 बजे वे घड़ी बनवाने के लिए निकले थे. इसके बाद 7 बजे घटना की सूचना मिली. उन्होंने बताया कि पति कुछ वर्ष पूर्व विक्षिप्त थे. किंतु अब ठीक हो गए थे. लेकिन इलाज में अधिक खर्च हो जाने की वजह से पति अक्सर चिंतित रहते थे. आर्थिक तंगी के कारण ही पति ने आत्महत्या की है.

पत्नी ने डीसी को बताया कि कोई भी सरकारी लाभ उनलोगों को नहीं मिलता था. राशनकार्ड भी नहीं है. कृषि आशीर्वाद योजना का लाभ भी नहीं मिला. उन्होंने डीसी से नौकरी देने एवं सरकारी योजना का लाभ देने की मांग की. इस पर डीसी ने पारिवारिक लाभ योजना के तहत सहायता, विधवा पेंशन, आवास योजना का लाभ देने का आश्वासन दिया.

सुसाइड नोट में आर्थिक तंगी को बताया था आत्महत्या का कारण

किसान दिग्विजय कुमार ने मंगलवार की रात सात बजे बानाे रेलवे स्टेशन व कनरोवा रेलवे स्टेशन के बीच ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी. घटनास्थल से आधार कार्ड व सुसाइड नोट मिला था. सुसाइड नोट में लिखा था कि मैं एक किसान हूं. आर्थिक तंगी के कारण आत्महत्या कर रहा हूं. इधर, दूसरे दिन बुधवार को दिग्विजय के विक्षिप्त रहने की भी बात सामने आई थी.

एयरफोर्स में थे मृतक के भाई

देवंती देवी ने बताया कि मेरा बेटा हरिओम कुमार जवाहर नवोदय विद्यालय गुमला जबकि बेटी भूमिका कुमारी दलमदी उच्च विद्यालय में पढ़ती है. पति के बड़े भाई एयरफोर्स में थे. पर तबीयत खराब होने के कारण नौकरी छूट गई. सास को पेंशन मिलता है, पर उनको शुगर व ब्लड प्रेशर सहित कई बीमारी है.