हिमाचल पंचायत चुनाव : 71.8 प्रतिशत लोग पैसे के लिए बनना चाहते है पंचायत प्रतिनिधि, सर्वे में हुआ खुलासा

हिमाचल पंचायत चुनाव : आज शाम थम गया प्रचार का सिलसिला, 17 जनवरी को होगा पहले चरण का मतदान
For Representational Purpose Only

शिमला. प्रदेश में पंचायत चुनाव होने में सिर्फ अब एक हफ्ते से भी कम समय बचा है. इसी बीच हिमाचल प्रदेश विवि के अंतरविषयक विभाग ने पंचायत चुनाव के मतदाता का मूड भापने के लिए एक सर्वे किया. सर्वे में खुलासा हुआ कि 71.8 प्रतिशत लोग पैसे के लिए पंचायत प्रतिनिधि बनना चाहते है.

सर्वेक्षण में पंचायत चूनाव को लेकर कुछ रोचक तथ्य सामने आये है. सर्वेक्षणकर्ता डॉ. बलदेव सिंह नेगी, डॉ. देवेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि 67.7 प्रतिशत मतदाताओं ने बताया कि स्थानीय निकाय के चुनाव में राजनीतिक दलों का प्रभाव फिर भी नजर आता है.

यह भी पढ़ें –

इसके ठीक उलट 79.8 फीसदी उत्तरदाता का मानना है कि वे पंचायत चुनावों में दल संबंद्धता के बजाए उम्मीदवार की व्यक्तिगत क्षमता को देख मतदान करते हैं. 67.7 फीसदी का मानना है कि मतदान के समय सामाजिक संबंध ज्यादा भूमिका निभाते हैं. जिस वजह से स्थानीय वास्तविक मुद्दे गौण हो जाते हैं.

63.2 फीसदी ने माना कि राष्ट्रीय मुद्दों का पंचायती चुनाव में विशेष प्रभाव नहीं पड़ता, 66 फीसदी ने माना स्थानीय मुददे मतदाताओं के मतदान व्यवहार को प्रभावित करते हैं. इसके साथ ही आपको बता दें की यह सर्वे 12 जिलों के 45 खंडों की 327 पंचायतों के 514 उत्तरदाताओं की राय पर आधारित है