नगर निगम चुनाव: निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त ने किया केंद्रों का दौरा

जयपुर और बगरु के कई मतदान केंद्रों पर ईवीएम की खराबी
प्रतीक चित्र

करनाल. नगर निगम चुनाव को लेकर छह प्रत्याशियों के नामांकन भरने की प्रक्रिया के बीच जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त डॉ. आदित्य दहिया ने प्रात: शहर में बनाए गए छह नामांकन केन्द्रों का दौरा कर तैयारियों को जायजा लिया. केन्द्रों में उपस्थित सभी सहायक रिटर्निंग अधिकारियों और उनकी टीम का परिचय लेकर कई प्रश्न पूछकर उनका जवाब लिया और अपनी संतुष्टि जाहिर की.

इससे टीम में शामिल कर्मचारियों की नामांकन को लेकर भ्रांतियां दूर हो जाने के साथ-साथ उनकी तैयारी भी पुख्ता हो गई. उपायुक्त के साथ नगर निगम चुनाव के रिटर्निंग अधिकारी एवं अतिरिक्त उपायुक्त निशांत कुमार यादव भी मौजूद रहे.

उपायुक्त ने डीएवी वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में जाकर मतदान केन्द्रों के लिए जरुरी वस्तुओं की किट का भी निरीक्षण किया. उपायुक्त ने लघु सचिवालय स्थित सहायक रिटर्निंग अधिकारी (एआरओ) एवं एसडीएम करनाल नरेन्द्र पाल मलिक के कोर्ट रुम में बनाए गए. नामांकन फॉर्म लेने के केन्द्र का निरीक्षण किया. इसके बाद लघु सचिवालय में ही एआरओ एवं मार्किटिंग बोर्ड के जेड ए सुशील मलिक के नामाकंन कार्यालय (उपायुक्त का कोर्ट रुम) का निरीक्षण किया.

डॉ.सुशील मलिक के कार्यालय में मेयर की सीट के लिए चुनाव लड़ने वालो के नामांकन लिए जा रहे हैं, जबकि एसडीएम करनाल की ओर से नगर निगम के वार्ड संख्या 1, 2, 9 और 10 के नामांकन लिए जा रहे हैं. लघु सचिवालय में ही एआरओ एवं डीडीपीओ कुलभूषण बसंल वार्ड नम्बर 13, 14, 15 व 16 के नामांकन (डीआरओ के कोर्ट रुम में) प्राप्त कर रहे हैं. उपायुक्त ने यहां का भी निरीक्षण किया.

निरीक्षण के दौरान उपायुक्त ने पार्षद अथवा मेयर के चुनाव लड़ने की आयु कितनी होनी चाहिए, एक ही परिवार से दो सदस्य मसलन सास-बहू चुनाव लड़ सकते हैं या नहीं, चेक लिस्ट, अलॉट किए जाने वाले चुनाव चिन्ह, फरोजन चुनाव चिन्ह तथा सदस्यता के लिए पिछली अयोग्यता (चुनाव आयोग द्वारा अयोग्य घोषित), जैसे सवाल पूछकर उनके उत्तर पूछे. रिकॉर्ड मेनटेन करने वाले सभी तरह के रजिस्टर जैसे परमिशन, नॉमिनेशन, एक्सपेंडिचर व शिकायत रजिस्टर को भी चेक किया.

उन्होंने बताया कि चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार की आयु, नामांकन पत्रो के जांच-पड़ताल की तिथि यानि सात दिसम्बर तक 21 वर्ष होनी चाहिए. उसका नाम चुनाव आयोग की मतदाता सूची में शामिल हो. एक ही परिवार से दो सदस्य चुनाव लड़ सकते हैं, उनको नामांकन फॉर्म भी अलग-अलग देने होंगे. सभी सहायक रिटर्निंग अधिकारियों से कहा कि सभी फार्म को अच्छी तरह चेक लिस्ट से मिलान करके ही प्राप्त करें. फॉर्म भरने वाले व्यक्ति से नगर निगम, उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम, कोऑपरेटिव सोसाइटी और कोऑपरेटिव बैंक तथा सहकारी कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक के बेबाकी प्रमाण पत्र (नो डयूज़) सर्टिफिकेट भी चेक कर प्राप्त करें.

सामान्य एवं पिछड़ा वर्ग के व्यक्ति की शैक्षणिक योग्यता पुरुष दसवीं तथा महिला आठवीं होनी चाहिए, जबकि अनुसूचित जाति के उम्मीदवार के लिए पुरुष आठवीं और महिला पांचवी पास हो. उन्होंने बताया कि अनुसूचित जाति एंव पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित वार्डों में इन्ही जाति के लोग तथा महिला के लिए आरक्षित वार्ड में महिला ही चुनाव लड़ सकती हैं, जबकि जनरल वार्ड में कोई भी व्यक्ति चुनाव लड़ सकता है. सामान्य वर्ग पुरुष के लिए जमानत राशि तीन हजार रुपए और अनुसूचित जाति, पिछड़ा वर्ग व किसी भी वर्ग की महिला के लिए 1500 रुपए की जमानत राशि रखी गई है.