चार बेटियों को छोड़ भागी मां, कहा अब नहीं आउंगी

ग्राम पंचायत लोअर रिवालसर के गांव लेहड़ा से एक महिला चार बेटियों को छोड़ कर

मंडी. बल्ह ऊपमंडल की ग्राम पंचायत लोअर रिवालसर के गांव लेहड़ा से एक महिला चार बेटियों को छोड़ कर चली गई है. स्थानीय निवासी दीनानाथ का कहना है कि उसकी पत्नी जिसकी उम्र 30 वर्ष है घर से किसी को बताए बिना कहीं चली गई है. मां के बिना चार मासूम बेटियों का रो-रो कर बुरा हाल है. परिवार के लिए उन्हें संभालना बहुत मुश्किल हो रहा है. बड़ी बेटी 5वीं, दूसरी बेटी तृतीय और तीसरी बेटी पहली कक्षा में पढ़ती है. जबकि सबसे छोटी बेटी अभी ढाई वर्ष की है.

दीनानाथ ने इस बारे में पुलिस से भी शिकायत की है. उसने बताया कि इससे पहले उसकी पत्नी 8 जून को भी घर से गायब हो गई थी. जब उसे फोन किया तो उसका कहना था कि मैं कहीं दूर चली गई हूं, अब वापस नहीं आउंगी. लेकिन दूसरे दिन पुलिस ने जब उससे संपर्क किया तो वो वापस आ गई थी. उसके बाद 12 जून को वो फिर घर से कहीं चली गई है. पति ने आशंका जताई है कि उसकी पत्नी किसी व्यक्ति के झांसे में आकर घर से भागी है.

ये भी पढ़ें- पंचायत उपप्रधान पर बुजुर्ग महिला के कपड़े फाड़ने का आरोप

महिला के अपने चार बच्चों को छोड़ कर भागने से क्षेत्र में तरह-तरह की चर्चा है. सबके मन में एक ही सवाल है कि आखिर चार बेटियों को छोड़ कर महिला घर से भागने पर क्यों मजबूर हो गई. इधर, रिवालसर पुलिस चौकी प्रभारी मुंशी राम ने बताया कि महिला का पता लगा लिया गया है. उसने कुल्लू में एक रात होटल में रुकने के बाद कुल्लू महिला पुलिस की मदद से मनाली स्थित महिलाओं के लिए काम करने वाली स्वयंसेवी संस्था ‘राधा’ में शरण ली हुई है.

मनाली में स्वयंसेवी संस्था ‘राधा’ की अध्यक्ष सुदर्शना ठाकुर का कहना है कि इस बेटी को संस्था ने ही पाल-पोष कर इसकी शादी रिवालसर के लेहड़ा में की थी. लेकिन ससुरालवाले बेटियों के बाद लड़के की चाह में अब इसे प्रताड़ित कर रहे हैं, जो बर्दास्त से बाहर है. जबतक परिवार वाले अपनी हरकतों से बाज नहीं आएंगे तबतक इसे यहीं रखा जाएगा.