आईजीएमसी में किशोर की मौत पर बवाल

आइजीएमसी में किशोर की मौत पर बवाल-Panchayat Times
साभार इंटरनेट

शिमला. प्रदेश के सबसे बड़े आईजीएमसी अस्पताल में डाक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगा है. अस्पताल में सोमवार को एक किशोर की मौत पर परिजनों ने खूब हंगामा किया.आरोप है कि आईजीएमसी अस्पताल की इमरजेंसी में 11 वर्षीय बच्चे को समय पर इलाज नहीं मिला और इस कारण उसकी मौत हो गई. हालांकि अस्पताल प्रशासन पोस्टमार्टम के बाद असलियत सामने आने की बात कर रहा है.

दरअसल सिरमौर जिले के शिलाई क्षेत्र का बच्चा अनुज (11) चार दिन पहले घर पर गिर गया था और उसके सिर में चोट लगी थी. परिजनों ने अनुज को उपचार के लिए स्थानीय अस्पताल में पहुंचाया. इसके बाद परिजन अनूज को सोमवार सुबह छह बजे आईजीएमसी अस्पताल लाए. यहां उपचार के दौरान अनुज की मौत हो गई. बच्चे की मौत होने के बाद उसके परिजनों से आईजीएमसी के इमरजेंसी वार्ड में जोरदार हंगामा कर दिया. अनुज के चाचा कपिल ने अस्पताल के डॉक्टरों पर लापरवाही के आरोप लगाए हैं.

कपिल का कहना है कि डॉक्टरों ने उनके भतीजे का सही तरीके से इलाज नहीं किया. इस कारण उसकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई. उन्होंने अनुज की मौत के लिए अस्पताल के डॉक्टरों को जिम्मेदार ठहराया है.

गुस्से में पति ने पत्नी की कर दी हत्या

परिजनाें ने आराेप लगाया कि जब वह इमरजेंसी में पहुंचे ताे डाॅक्टराें काे कई बार बाेलने के बावजूद उन्हाेंने बच्चे का इलाज नहीं किया. अनुज के चाचा कपिल ने कहा कि उन्होंने डाॅक्टराें काे कई बार बाेला कि उनके भतीजे के दर्द हाे रहा है और उसकी जांच की जाए. लेकिन डाॅक्टर यही बाेलते रहे कि कुछ नहीं है. उनका आराेप है कि अनुज का सीटी स्कैन और अल्ट्रासाउंड हुआ.उसके बाद भी डाॅक्टराें ने यही कहा कि कुछ नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि मरीज को सिर्फ एक इंजेक्शन उसे दिया गया और दाेपहरबाद उनके भतीजे ने दम ताेड़ दिया. इससे नाराज परिजनों ने अस्पताल में हंगामा कर दिया. इसके बाद वहां पुलिस बल को बुलाना पड़ा और फिर जाकर वे शांत हुए और फिर अस्पताल प्रशासन को लिखित में शिकायत दी.

उधर, अस्पताल प्रशासन दावा कर रहा है कि बच्चे का सिटी स्कैन और अल्ट्रा साउंड करवाया गया, जिसमें कुछ नहीं निकला है. आईजीएमसी अस्पताल के वरिष्ठ एमएस डॉ. जनकराज ने कहा कि शव का पोस्टमॉर्टम करवाया जाएगा.पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही बच्चे की मौत के कारण का पता चलेगा.