ट्विटर का फेक न्यूज के खिलाफ अभियान, यूजर्स से मांगी राय

नई दिल्ली. दिन प्रतिदिन फेक न्यूज का बाजार बढ़ता ही जा रहा है. चाहे चुनाव के समय किसी भी नेता की छवि को धूमिल करने की बात हो या किसी व्यक्ति की झूठी मरने की खबर फैलाने की. फेक न्यूज ज्यादातर सोशल मीडिया के माध्यम से फैलती है. इसी कड़ी में ट्विटर ने एक अभियान शुरू किया है. ट्विटर इस अभियान में अपने यूर्जस की मदद ले रहा है.

आपको बता दें कि सोमवार को ट्विटर की उपाध्यक्ष डेल हार्वे ने कहा कि वह अपने मंच पर बरगलाने वाली साम्रगियों के प्रचार- प्रसार को रोकने के लिए नए नियम लाने को तैयार है. इसके लिए कंपनी अपने यूजर्स से राय भी ले रही है. कंपनी डीपफेक वाले ट्वीट को लाइक या साझा करने से पहले यूर्जस को चेतावनी देने पर भी गौर कर रही है. कंपनी ने कहा कि उठाए जाने वाले कदमों में ऐसे ट्वीट को हटाना भी शामिल हो सकता है, जिनके साथ छेड़छाड़ की हुई ऐसी सामग्रियां डाली गयी हों जो किसी की सुरक्षा के लिये खतरा उत्पन्न कर सकते हो.

फेक न्यूज : महेंद्र सिंह धोनी को प्रत्याशी बनाए जाने की चर्चा

इसके अलावा कंपनी ने ट्वीट को लाइक और साझा करने से पहले यूजर्स को चेतावनी देने पर भी गौर कर रही है. ताकि प्लेटफॉर्म पर बरगलाने वाली चीजों को प्रसारित होने से रोका जा सके, इसके अलावा उसकी योजना इस तरह के ट्वीट के साथ उदाहरण के लिये किसी खबर का लिंक देने की भी है, ताकि लोगों को यह पता चल सके कि विभिन्न स्रोतों के हिसाब से कैसे मैनिपुलेटिव ट्वीट के साथ डली सामग्री जिसमें फोटो, वीडियो इत्यादि बरगलाने के लिये तैयार की गयी है.

इसके लिए कंपनी ने यूजर्स की राय ले रही है ताकि उसको नए नियम को तैयार करने में आसानी रहे. ऐसे में कंपनी 27 नवंबर तक यूजर्स से राय लेगी और उसके बाद उसके अध्ययन और विशेषज्ञों की सलाह के आधार पर नये नियम को लागू करेगी. हालांकि कंपनी ने यह साफ कर दिया है कि वह जो भी नए नियम लागू करेगी उसके अमल से कम से कम 30 दिन पहले उसकी घोषणा कर दी जाएगी.

वहीं आपको बता दें पंचायत टाइम्स, आईजीपीपी और सोशल मीडिया मैटर्स ने पिछले दिनों ‘चुनाव, मीडिया और फेक न्यूज’ के विषय पर एक सर्वे किया है और चुनाव में फेक-न्यूज अभियान की शुरुआत की है. इस अभियान में पंचायत टाइम्स झारखंड में फैले अपने रिपोर्टरों के माध्यम से जनता में फेक न्यूज के प्रति जागरूकता बढ़ायेगा. साथ ही चुनाव के दौरान फेक-न्यूज के प्रचार प्रसार को रोकने में मदद करेगा.