14 भारतीयों को विदेश भेजने वाले तीनों एजेंट जमानत पर रिहा

सुंदरनगर (मंडी). 14 भारतीयों को टूरिस्ट वीजा के आधार पर सऊदी अरब भेजने वाले चर्चित मामले में गिरफ्तार 3 ट्रैवल एजेंटों को न्यायालय द्वारा जमानत पर रिहा कर दिया गया है. जानकारी देते हुए बचाव पक्ष के अधिवक्ता कुलदीप सेन ने कहा कि आरोपी कादर अली,अब्दुल वसीम और मोहम्द आसिफ ने गिरफ्तारी के उपरांत सुंदरनगर न्यायालय के अतिरिक्त मुख्य  न्यायिक दंडाधिकारी हितेंद्र शर्मा की अदालत में अपनी जमानत याचिका गुजार रखी थी.
उन्होंने कहा कि आरोपियों द्वारा दायर जमानत याचिका पर फैंसला सुनाते हुए हितेंद्र शर्मा ने तीनों ट्रैवल एजेंट को 50 हजार के निजी और जमानती मुचलका पर रिहा कर दिया. सुंदरनगर उपमंडल के गांव डीनक के रहने वाले इन तीन एजेंटों पर आरोप है कि इन्होंने 14 भारतीयों को टूरिस्ट वीजा के आधार पर काम के लिए सऊदी अरब भेजा था और  महीने के वीजा खत्म होने के बाद आगे का वीजा कंपनी मालिक द्वारा बनाने की बात कही थी.
कंपनी मालिक की ओर आगे का वीजा न बनाने पर सऊदी की पुलिस ने 13 हिमाचली व एक पंजाब के युवक को गिरफ्तार किया था,जिसमें एक पंजाब के युवक की विदेश वापसी हो गई थी और तीन अन्य हिमाचली युवक भी वापिस अपने देश लौट आए हैं. अभी भी सऊदी अरब में फंसे हुए अन्य 10 युवकों की वतन वापसी को लेकर संशय बरकरार है. इससे पहले पुलिस ने इन एजेंटों के खिलाफ शिकायत आने पर भारतीय दंड संहिता की धारा 420 के तहत धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था. मामले में तीनों आरोपियों द्वारा दायर जमानत याचिका को न्यायालय ने मंजूर कर दिया है. पुलिस की मामले में जांच जारी है.