हरियाणा की पहली इको फ्रेंडली जेल का मनोहर लाल रविवार को करेंगे उद्घाटन

सौतेली बहन से दुष्कर्म के आरोपी को चार वर्ष की कैद-Panchayat Times
साभार इटंरनेट

 चंडीगढ़. जुर्म की सजा भुगतने के लिए बनायी गई जेलों को अब आधुनिक रूप दिया जा रहा है. हरियाणा में इसकी शुरुआत पानीपत से होगी. प्रदेश में पानीपत की यह पहली जेल है जो इको फ्रेंडली होगी. मुख्यमंत्री मनोहर लाल रविवार को इसका उद्घाटन करेंगे. जेल में 230 किलोवॉट का सोलर एनर्जी प्लांट लगाया गया है. इस प्लांट से बिजली की कम खपत होगी ही, साथ ही जेल विभाग की ओर से बिजली निगम को बिजली आपूर्ति भी की जाएगी. जेल में अस्पताल सुविधा से लेकर बायोमेट्रिक सुविधा होगी.

पानीपत जेल से एक हजार बंदियों को करनाल जेल में शिफ्ट किया गया है. इनमें 337 कैदी ,615 अंडर ट्रायल व 31 महिलाएं साथ में चार से पांच बच्चे हैं. एक हजार बंदियों की यह जेल आधुनिक जेलों में से एक है. जेल का परिसर 48 एकड़ है. 70 करोड़ की लागत से चार साल आठ महीने में जेल बन तैयार हुई है.

मुख्यमंत्री मनोहर लाल रविवार को 70 करोड़ की लागत से बनी आधुनिक जेल का शुभारंभ करेंगे. यह हरियाणा की पहली जेल है जो ईको फ्रेंडली व सोलर एनर्जी से युक्त है.पानीपत की उपायुक्त सुमेधा कटारिया ने बताया कि जेल के कार्यों को अंतिम रूप दिया जा रहा हैं. पानीपत की यह जेल हरियाणा की ईको फ्रेंडली जेल होगी, इसमें सोलर एनर्जी प्लांट भी लगाया गया है. एक आदमी पूरी जेल पर नजर रख सकता हैं। एक हजार बंदियों की यह जेल आधुनिकतम जेलों में से एक जेल हैं.

पुलिस हाउसिंग कारपोरेशन के एससी केएन भट्ट ने बताया की 48 एकड़ में बनी यह जेल दो फेज में पूरी हुई है. जेल में 230 किलोवॉट का सोलर प्लांट लगाया गया है, बिजली की पूर्ति होने के बाद बची हुई बिजली, बिजली विभाग को दी जाएगी. हर बैरक में एक एलईडी होगी. सभी बंदियों, पुलिसकर्मी व बंदियों से मिलने आने वालों के लिए बायोमेट्रिक प्रणाली का प्रयोग किया जाएगा.

पानीपत जेल अधीक्षक सोमनाथ जगत ने बताया कि जेल की सुरक्षा के जबरदस्त इंतजाम हैं. भोजन बनाने के लिए नवीनतम तकनीक व आधुनिक चिमनी का इस्तेमाल किया जाएगा. अप्रैल में करनाल से पानीपत के सभी बंदियों को यहां लाया जाएगा. करनाल जेल में पानीपत जेल के एक हजार बंदी हैं. जिनमे 337 कैदी, 615 अंडर ट्रायल व 31 महिलाएं साथ में चार से पांच बच्चे हैं.

जेल में पांच पुरुष कैदी बैरक, एक महिला कैदी बैरक, 30 बिस्तरों वाला अस्पताल, कैदियों को हुनरमंद बनाने के लिए फैक्टरी शेड, स्पेशल सेल, 35 फुट ऊंचे छह वॉच टावर, रसद गोदाम, प्रशासनिक ब्लॉक, वार्डन हॉस्टल, रसोई, चारदीवारी व 56 आवास, फैक्टरी शेड, स्पेशल सेल, उच्च निगरानी सेल, खुंखार अपराधियों के लिए विशेष सेल, बहुउद्देशीय भवन, पुस्तकालय, कक्षा पांच तक का स्कूल व कंट्रोल रूम की सुविधा होगी.