मुख्यमंत्री से वार्ता के बाद जंजैहली मसले पर टूटा गतिरोध

मंडी. मुख्यमंत्री और संघर्ष समिति के बीच समझौता वार्ता के बाद जंजैहली एसडीएम कार्यलय को लेकर जारी आंदोलन अब समाप्त हो गया. सोमवार को मुख्यमंत्री आवास पर हुए समझौते को अमलीजामा पहनाते हुए मंगलवार को जंजैहली के क्रांतिचौक पर अनशन पर बैठी महिलाओं को जूस पिलाकर अनशन समाप्त करवा दिया.

आंदोलन थमने के बजाया लगातार उग्र होता चला गया

इसके साथ ही पिछले डेढ़ महीने से चला आ रहा आंदोलन समाप्त हो गया. एसडीएम कार्यालय जंजैहली की अधिसूचना हाईकोर्ट की ओर से रद कर दिए जाने के बाद जंजैहली में लोग लांमबदं होना शुरू हो गए थे. लोगों का यह आंदोलन थमने के बजाया लगातार उग्र होता चला गया. जिसके चलते लोगों ने धरना, प्रदर्शन, रैलियां निकालने के अलावा मुख्यमंत्री के पुतलों का दहन और शवयात्रा तक निकाल कर अपना आक्रोश जाहिर किया.

इस बीच बातचीत की कोशिशें भी होती रही और थुनाग में एसडीएम कार्यालय की अधिसूचना के साथ ही सरकार ने चार दिन तक जंजैहली में एसडीएम को बैठाने की अधिसूचना भी जारी कर दी गई. जिससे आंदोलन और भी भड़क गया. इसमें कांग्रेस के कुछ नेताओं के अलावा वामपंथी नेता भी कूद पड़े थे. आंदोलन के दौरान उन पर पुलिस की ओर से मामले भी दर्ज किए गए. जिन्हें भी समझौते के अनुसार सरकार वापस ले लेगी. अपने सराज दौरे के दौरान मुख्यमंत्री जनसभाओं में भी अनशन को लेकर अपने दिल के दर्द को बयां कर लोगों से भावुक अपील करते हुए मसले का बातचीत से हल निकालने का न्योता भी दे गए थे. जिसका सोमवार को सुखद पटाक्षेप हो गया.

12 दिन एसडीएम बैठाने पर बनी सहमति

सरकार ने भले ही जंजैहली में चार दिन एसडीएम बैठाने का प्रस्ताव रखा था. मगर जंजैहली के लोग महीने में 12 दिन जंजैहली में एसडीएम बैठाने की जिद पर उड़े रहे. जिसको लेकर पिछले लगभग तीन हफ्तों से क्रमिक अनशन जारी था. अनशन के अंतिम दौर में महिलाओं ने मार्चो संभाल रखा था. सोमवार को मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के साथ ओकओवर में संघर्ष समिती सराज की बैठक में इस मसले का समाधान निकल गया. जिसमें अदालत का फैसला आने तक महीने में 12 दिन एसडीएम जंजैहली में अपनी सेवाएं देंगे. इस बात को जंजैहली की जनता ने भी मान लिया और विधिवत अनशन तोडऩे का निर्णय लिया.

मंगलवार को एडीएम मंडी राजीव कुमार व एसडीएम सराज सुरेंद्र मोहन ने जंजैहली के क्रांति चौक पर अनशन पर बैठी महिलाओं भावना देवी, नर्बदा देवी, लता देवी, विद्या देवी, कमला देवी, लुहारी देवी संतरे का जूस पिलाकर अनशन तुड़वाया।

अनशन तोड़ने के बाद निकाली विजय रैली

अनशन तोड़ने के बाद जंजैहली में विजय रैली निकाली गई. लोगों ने अनशन पर बैठी महिलाओं का आभार व्यक्त किया. वहीं संघर्ष समिति की ओर से जगदीश रेड्डी, नरेंद्र रेड्डी, चेत राम ठाकुर, विरेंद्र कुमार, हेमराज, वेद कुमार आदि ने इस जीत को जनता की जीत करार दिया. वहीं पर इस मसले के समाधान केलिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का आभार व्यक्त किया.