हिमाचल : लाहौल-स्पीति का थोरंग गांव जहां एक व्यक्ति को छोड़कर पूरा गांव कोरोना पॉजिटिव, बढ़ते मामलों को देखते हुए लाहौल घाटी में पर्यटकों के प्रवेश पर रोक

हिमाचल : लाहौल-स्पीति का थोरंग गांव जहां एक व्यक्ति को छोड़कर पूरा गांव कोरोना पॉजिटिव, बढ़ते मामलों को देखते हुए लाहौल घाटी में पर्यटकों के प्रवेश पर रोक - Panchayat Times
For representational purpose only Source :- Internet

शिमला. मनाली-लेह हाइवे पर स्थित एक गांव है थोरंग जो आजकल काफी सुर्खियों में है. इस गांव में सिर्फ 42 लोग रहते हैं. जब ग्रामीणों ने स्वेच्छा से अपनी कोरोना जांच कराई, तो गांव के 42 लोगों में से 41 की जांच पॉजिटिव पाई गई.

लेकिन इसी गांव के भूषण ठाकुर (52) ही गांव में अकेले ऐसे शख्स हैं, जिन्हें कोरोना नहीं पाया गया है. अब लाहौल-स्पीति घाटी राज्य में सबसे अधिक कोरोना वायरस से प्रभावित जिला बन गया है.

लाहौल स्पीति जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों को देखते हुए प्रशासन ने लाहौल घाटी में पर्यटकों के प्रवेश पर लगाई रोक.

स्पीति घाटी में कोविड-19 से 39 संक्रमित

इससे पहले राज्य के लाहौल-स्पीति जिले की सुदूर स्पीति घाटी में रंग्रिक के 39 निवासियों का कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव आया था. वायरस को नियंत्रित करने के लिए एहतियात के तौर पर अधिकारियों ने गांव को सील कर दिया है और बिना इमरजेंसी के गांव के अंदर और बाहर आवाजाही पर रोक लगा दी है.

स्पीति घाटी में मुख्य रूप से आदिवासियों का बसेरा

पूरे स्पीति घाटी में मुख्य रूप से आदिवासियों का बसेरा है. जिले की जलवायु परिस्थितियां ठंडे रेगिस्तान के मुकाबले अधिक कठोर हैं, जहां सर्दियों के दौरान पारा शून्य से 20 डिग्री सेल्सियस नीचे चला जाता है.

हिमाचल प्रदेश में गुरुवार  को कोविड-19 के 12 और मरीजों की मौत के बाद मृतकों की कुल संख्या 481 हो गई है जबकि वायरस संक्रमण के 796 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल तादाद 32,198 तक पहुंच गई है.