अमित शाह ने रांची में दिया गुरुमंत्र, पहले रिसर्च बाद में शेयर

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी

रांची. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी के सोशल मीडिया वालंटियर्स को उनके काम से जुड़ा मंत्र दिया है. उन्होंने कहा कि किसी भी कंटेंट को डालने से पहले उसकी प्रॉपर रिसर्च करें. उसके बाद ही उसे सोशल मीडिया पर डालें.

राजधानी के कांके रोड स्थित सीएमपीडीआई कैंपस में मयूरी ऑडिटोरियम में आयोजित कार्यक्रम में शाह ने कहा कि पूरा विपक्ष एकजुट होकर देश के प्रधानमंत्री के खिलाफ दुष्प्रचार करने में लगा है. खासकर एक ग्रुप उनके खिलाफ प्रचार कर माहौल बनाने की कोशिश कर रहा है. कुछ मीडिया ग्रुप्स पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा कि मीडिया के कुछ प्रोग्राम भी उनके खिलाफ चल रहे हैं. पूरे प्रदेश से आए लगभग 800 युवक-युवतियों को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि सोशल मीडिया को और धारदार और मजबूत बनाने की जरूरत है. साथ ही इस लड़ाई में ताकतवर वही साबित होगा जिसमें ठहरने की क्षमता है.

रांची. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी के सोशल मीडिया वालंटियर्स

ये भी पढ़ें- रांची पहुंचे अमित शाह, एयरपोर्ट पर भव्य स्वागत

शाह ने कहा कि सोशल मीडिया के काम को तीन हिस्सों में बांटना होगा. इसके लिए रिसर्च की जरूरत है. बिना उसके कोई भी कंटेंट सोशल मीडिया पर डालना सही नहीं होगा. शाह के पहुंचने के पहले केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि राजनीति मौजूदा समय में सोशल मीडिया पर हो रही है. सोशल मीडिया पर लेख का फायदा नहीं मिलता है. बल्कि वीडियो और फोटो का सीधा असर होता है. उन्होंने कहा कि पार्टी किसी भी रूप में बैकफुट पर नहीं है. 2019 में विपक्षियों को करारा जवाब मिलेगा. जब चुनाव सोशल मीडिया के आधार पर लड़ा जाएगा.

5 साल में आठ करोड़ गैस चूल्हे

इससे पहले आदिवासी समुदाय के बुद्धिजीवियों के साथ संवाद करते हुए शाह ने कहा कि उनका यह दौरा विपक्षी दलों की तरफ से फैलाए जा रहे भ्रांतियों को दूर करने को लेकर बना है. उन्होंने कहा कि मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक ऐसा विकास का खाका खींचा है जो कांग्रेस के राज में कभी नहीं हुआ.

उन्होंने कहा कि पिछले 5 साल में आठ करोड़ गैस चूल्हे बांटे गए, ग्रामीणों के घर में बिजली पहुंचाई गई. आदिवासी बच्चों के लिए टीकाकरण की योजना के साथ अनेक कल्याणकारी योजनाएं शुरू की गई. अफवाह फैलाई जा रही है कि मौजूदा सरकार एससी-एसटी एक्ट को कमजोर करने जा रही हैं.