राम मंदिर पर जल्द फैसला आने की उम्मीदों का अमित शाह ने किया स्वागत

राम मंदिर पर जल्द फैसला आने की उम्मीदों का अमित शाह ने किया स्वागत-Panchayat Times
फाइल फोटो- अमित शाह

रांची. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह बुधवार की शाम एक अखबार की ओर से होटल रेडिसन ब्लू में आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए. यहां पर उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुनवाई के 26वें के दिन अयोध्या मसले पर दोनों पक्षों को 17 अक्टूबर तक जिरह पूरी करने की सलाह देने पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट किसी के चाहने या नहीं चाहने से नहीं चलती है. लोकसभा चुनाव के चलते कांग्रेस के कहने पर सुप्रीम कोर्ट ने इस पर फैसला कुछ समय के लिए टाल दिया था. लेकिन अब सर्वोच्च न्यायालय ने इस मुद्दे पर जल्द फैसला देने की बात कही है. तो यह एक स्वागत योग्य खबर है. उन्होंने कहा कि अदालत में चीजें विवादित होने पर ही पहुंचती हैं. जब फैसला आयेगा तो किसी को अच्छा लगेगा है और किसी को बुरा, लेकिन यह कोर्ट का फैसला होगा.

उन्होंने कहा कि सरकार देश के सभी तीर्थों को पर्यटन की दृष्टि से विकसित कर रही है. देव स्थानों पर प्रसाद योजना, स्वच्छता अभियान के अंतर्गत विकास किया जा रहा है. अनुच्छेद 370 और 35ए को समाप्त करने पर शाह ने कहा कि कश्मीर भारत का हिस्सा है. हमने अपने संविधान के अंतर्गत मिले अधिकारों के तहत ही अनुच्छेद 370 और 35ए को हटाकर नया कानून बनाया है. उन्होंने कहा कि अब तक मोदी सरकार को कूटनीतिक सफलता हासिल हुई है. पूरा विश्व स्वीकार करता है कि भारत में आतंकवाद में सरहद पार का बड़ा रोल है. अनुच्छेद 370 हटाने से पहले देश के लगभग 106 कानून ऐसे थे जो कश्मीर में लागू नहीं हो पाते थे. इनमें बाल विवाह भी एक कानून है. कश्मीर में एंटी करप्शन ब्यूरो नहीं था. भारत सरकार ने कश्मीर को 2 लाख, 77 हजार करोड़ रुपये दिए, ताकि जनता का कल्याण हो सके, लेकिन उसमें से अधिकतर पैसे बीच में ही गायब हो गये. हम कश्मीर में सेना की बहाली करवा रहे हैं. वहां पर स्वास्थ्य सुविधाएं, शिक्षा और पर्यटन को बढ़ावा दिया जा रहा है. इससे वहां पर रोजगार भी बढ़ेगा.

अनुच्छेद 370 हटाना मेनिफेस्टो में था तो भाजपा सरकार अपने ही एजेंडे पर चलेगी

देश के गृहमंत्री ने कहा कि अनुच्छेद 370 को हम शुरू से ही अस्थाई मानते थे. इसे हटाना हमारी पार्टी के मेनिफेस्टो में था. यह भाजपा की सरकार है. अतः यह भाजपा  के ही एजेंडे पर चलेगी जिसे हम लागू कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि कश्मीर में हालात अब काफी सामान्य हो चले हैं. 196 पुलिस स्टेशनों में से सिर्फ 8 में ही धारा 144 लागू है और कर्फ्यू कहीं नहीं है

जोहार जन आशीर्वाद यात्रा को अमित शाह ने दिखाई हरी झंडी

पाकिस्तान की भाषा एक हिन्दुस्तानी अखबार क्यों बोल रहा

मानवाधिकार के मुद्दे पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि कश्मीर में जो 41 हजार लोग मारे गए, उनके मानवाधिकारों के लिए कौन जिम्मेदार हैं. आप कांग्रेस पार्टी से उनके मानवाधिकारों की बात करें. इस सवाल पर उन्होंने आयोजकों से भी पूछा कि पाकिस्तान की भाषा एक हिंदुस्तानी अखबार क्यों बोल रहा है.

अनुच्छेध 370 कश्मीर और विकास के बीच बड़ा रोड़ा था

गृह मंत्री ने कहा कि 370 कश्मीर और विकास के बीच बड़ा रोड़ा था. इसके हटने से अब कश्मीर जल्दी विकास के रास्ते पर आ जाएगा. हम जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं. उन्होंने कहा कि करीब 40 हजार सरपंच कश्मीर में अपने गांव का कल्याण करेंगे. परिवार वाली पार्टियों को जनता धीरे-धीरे हाशिए पर डाल रही है.