पानीपत में मनरेगा के तहत बनाए जाएंगे आंगनबाड़ी केंद्र

पानीपत में मनरेगा के तहत बनाए जाएंगे आंगनबाड़ी केंद्र-Panchayat Times
पानीपत में मनरेगा के तहत बनाए जाएंगे आंगनबाड़ी केंद्र

हरियाणा. एडीसी सुजान सिंह यादव मंगलवार को लघु सचिवालय में आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने यहां पर कहा कि राष्ट्रीय पोषण मिशन के तहत प्रथम चरण में शुन्य से छह वर्ष के बच्चे, किशोरियों, गर्भवती महिलाओं, दूध पिलाने वाली महिलाओं के लिए, बच्चों में आए बौनेपन, अल्प पोषण, कम वजन, खून की कमी (अनिमिया) जैसे निर्धारित लक्ष्यों के साथ आगामी तीन वर्षो में समयबद्ध तरीके से पोषण स्तर में सुधार लाने के लिए धरातल पर कार्य किया जाएगा.

उन्होंने बताया कि पोषण अभियान के अंतर्गत प्रत्येक महीने की 22 तारीख को पोषण दिवस प्रत्येक आंगनबाड़ी केन्द्रों में मनाया जाएगा. उन्होंने सभी पंचायती राज संस्थाओं से अपील की कि पोषण अभियान को सफल बनाने के लिए इसका पूरा प्रचार प्रसार करें. पोषण अभियान दिवस पर आंगनबाड़ी केन्द्रों में पीआईआर के सदस्य भाग लेकर इस अभियान को सफल फल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगें. सेल्फ हेल्फ ग्रुप के सदस्यों की सहायता से आंगनबाड़ी केंद्रों में पड़ी खाली जगह पर पोषण वाटिका बनाई जाएगी.

हरियाणा में न जले पराली, सरकार उठा रही है ये कदम

जिला पानीपत में 1048 में से केवल 339 आंगनबाडी केंद्र ही अपने भवन में है. इसलिए जिला पानीपत में बच्चों और महिलाओं के लिए मनरेगा स्कीम के तहत आंगनबाड़ी केंद्र बनवाए जाएंगे. पोषण अभियान को जन आंदोलन का नाम दिया जाएगा. जिला पानीपत में शहर, गांव, कस्बे, कॉलोनी, गली-गली में पोषण अभियान का प्रचार-प्रसार किया जाएगा. उन्होंने निर्देश दिए गए कि आंगनबाडी सेंटरों की स्वच्छता का विशेष ख्याल रखा जाए और यह जिम्मेदारी आंगनबाडी कर्मचारियों की है.

उन्होंने कहा कि कृषि विभाग जिला पानीपत में जगह-जगह पर कृषि विभाग से संबंधित योजनाओं को लेकर कैंप लगा रहा है. इन कैंपों में आंगनबाड़ी कर्मचारी भी भाग ले और ग्रामीणों को पोषण अभियान की जानकारी दे. उन्होंने बताया कि डीईआईसी सिविल चिकित्सालय की पुरानी बिल्डिग प्रथम स्थल पर बनी हुई है. इसमें कुपोषण से संबंधित बच्चों को रेफर कराकर उनका अच्छे से ईलाज करा सकते है.

उन्होंने शिक्षा विभाग को आदेश दिए कि वे बच्चों को पोषण अभियान के बारे में बताए ओर सेनेट्ररी की सुविधाओं को दुरूस्त करवाएं ओर तीन दिन के अंदर रिपोर्ट प्रस्तुत करे कि हर स्कूल में कितने बच्चे हैं, कितने टॉयलेट हैं और पानीपत की सुविधा कैसी है. उन्होंने बताया कि सितंबर माह को पोषण महीने के तौर पर मनाया जाएगा. जिसमें सप्ताहवार कार्यक्रम किए जाने है.