हिमाचल | सेब की बंपर पैदावार लेकिन लगातार घट रहे दामों से बागवान परेशान

हिमाचल | सेब की बंपर पैदावार लेकिन लगातार घट रहे दामों से बागवान परेशान - Panchayat Times
Himachal Apple

शिमला. हिमाचल में इस सीजन में सेब की बंपर पैदावार हुई है लेकिन दामों में भारी गिरावट होने से किसानों समेत इससे जूड़े अरबों के कारोबार पर संकट के बादल मंडराने लगे है. लगातार घटते दामों से चिंतित प्रदेश के मुखिया जयराम ठाकुर ने बागवानों से मंडियों और मार्केट में सेब की फसल को अभी कम भेजने को कहा है.

काफी कम हो चूके है दाम

खबरों के अनुसार बीते 15 दिन में सेब के दाम 1,000 से 1,200 रुपये प्रति पेटी (25 से 30 किलो) तक गिर चुके हैं. सेब के दाम में आई एकाएक बड़ी गिरावट से बागवान चिंतित हैं.

क्या बोले मुख्यमंत्री

बुधवार को एक अनौपचारिक पत्रकार वार्ता में सीएम बोले कि अभी एक ही बात उन्होंने बागवानों से कही है कि वे मार्केट में सेब भेजने की प्रक्रिया को थोड़ा स्लो डाउन कर लें. उन्हें उम्मीद है कि आने वाले समय में मार्केट में सुधार होगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि भंडारण क्षमता वालों से भी आग्रह किया जाएगा कि वे ठीक दाम पर सेब खरीदें, जिससे बागवानों को नुकसान न हो. न्यूनतम समर्थन मूल्य तय से ज्यादा बढ़ाने की मांग आ रही है. उस पर विचार तो कर रहे हैं, लेकिन उसमें गुंजाइश कम है. इसके पिछे का कारण यह है कि हिमाचल की आर्थिक स्थिति ज्यादा अच्छी नहीं है.

निजी कंपनियों से भी अच्छे रेट की उम्मीद नहीं

मंडियों में रेट गिरने पर बागवान निजी कंपनियों से अच्छे रेट की उम्मीद लगाए बैठे थे, लेकिन सेब खरीद करने वाली अडानी की कंपनी ने इस साल 10 साल पुराने रेट खोले हैं. 2011 में अडानी ने 65 रुपये प्रति किलो रेट पर सेब खरीद की थी.

अभी क्या है स्थिति

इस साल भी कंपनी करीब इसी रेट पर सेब खरीद शुरू करने जा रही है. इस साल प्रदेश में करीब साढ़े चार करोड़ पेटी सेब उत्पादन का अनुमान है. करीब 3 करोड़ पेटी सेब अभी मंडियों में जाना बाकी है.

अभी अच्छी गुणवत्ता वाला सेब इन दिनों मंडियों में प्रति पेटी औसतन 1,500 और अधिकतम 1,800 रुपये तक बिक रहा है. जो कुछ समय पहले तक 3,000 रुपये से भी ऊपर बिक रहा था. वहीं कम गुणवत्ता वाला सेब 500 से 800 रुपये में बिक रहा है. बागवान सेब के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य लागू करने की मांग उठा रहे हैं.