झारखंड में अखिल भारतीय तीरंदाजी चैम्पियनशिप का उद्घाटन

सातवीं अखिल भारतीय तीरंदाजी चैम्पियनशिप प्रतियोगिता का उद्घाटन

रांची. झारखंड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि तीरंदाजी ने राज्य को विश्व स्तर पर एक पहचान दी है. मुर्मू ने मंगलवार को सातवीं अखिल भारतीय तीरंदाजी चैम्पियनशिप प्रतियोगिता का उद्घाटन करते हुए कहा कि ज्योति कुमारी और झानु हांसदा ने हमे विश्व स्तर पर पहचान दिलायी. ये इस प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीतते रहे हैं.

मुर्मू ने कहा कि यह प्रसन्नता का विषय है कि झारखण्ड प्रदेश को 7वीं अखिल भारतीय तीरंदाजी चैम्पियनशिप प्रतियोगिता का आयोजन करने का गौरव प्राप्त हुआ है. गर्व का विषय है कि प्रथम अखिल भारतीय तीरंदाजी चैम्पियनशिप प्रतियोगिता का आयोजन करने का गौरव भी वर्ष 2012 झारखण्ड प्रदेश को ही प्राप्त हुआ था. फिर वर्ष 2016 में 5वीं अखिल भारतीय पुलिस तीरंदाजी चैम्पियनशिप प्रतियोगिता के मेजबानी करने का गौरव राज्य पुलिस को प्राप्त हुआ था. उन्होंने कहा कि पुलिस कर्मियों की दिनचर्या काफी व्यस्ततम होती है. जो धैर्यपूर्वक नियम कानून का पालन करते हुये सदैव जनता के लिये समर्पित रहते हैं. उन्हें न केवल प्रतिपल तरह-तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, बल्कि भारी तनाव को भी झेलना पड़ता है.

सातवीं अखिल भारतीय तीरंदाजी चैम्पियनशिप प्रतियोगिता का उद्घाटन
दीपिका कुमारी, झारखंड की विश्व प्रसिद्ध तीरंदाज

ये भी पढ़ें- अर्जुन मुंडा बने झारखंड तीरंदाजी संघ के अध्यक्ष, लोगों ने दी बधाई

राज्यपाल ने कहा कि इन प्रतिकूल परिस्थितियों के बीच पुलिस पदाधिकारी एवं कर्मीगण, न केवल समय निकाल कर खेल के प्रति अभिरूचि रखते हैं, बल्कि अपनी सक्रिय सहभागिता के साथ प्रतियोगिता में भाग भी लेते हैं और अपना कौशल दिखाते हैं. इसका सकारात्मक प्रभाव अधीनस्थ पदाधिकारीयों एवं कर्मियों पर भी पड़ता हैं. उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग मे खेलकूद के साथ ही साथ लक्ष्यात्मक प्रतियोगिता अत्यन्त ही आवश्यक हैं, जो शारीरिक एवं मानसिक विकास के साथ ही साथ चारित्रिक विकास भी करता है. जिससे एक अनुशासनिक वातावरण विकसित होता है और विषम परिस्थितियों में भी मुकाबला करने का हिम्मत देता है.

मुर्मू ने कहा कि हमारे झारखंड प्रदेश में सशस्त्र बल के बटालियनो में अच्छे-अच्छे जिम खोले गये हैं और जिला पुलिस मुख्यालय में भी ऐसी व्यवस्था है. हमारी भावना है कि प्रत्येक जिला मुख्यालय एवं जैप में एक जैसी लक्ष्यात्मक व्यवस्था शीघ्र किया जाये, ताकि सभी पुलिसकर्मी शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रहने के साथ ही साथ लक्ष्य को प्राप्त कर सके. राज्यपाल ने कहा कि मुझे अवगत कराया गया कि इस तीरंदाजी की प्रतियोगिता में कुल 22 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों से संबंधित राज्यों की पुलिस एवं पारा मिलिट्री बलों से कुल 352 राजपत्रित और अराजपत्रित पुलिस पदाधिकारी एवं कर्मीगण सम्मिलित हो रहें हैं, जो अपने विहंगम कौशल का प्रदर्शन करेंगें. उन्होंने इस तीरंदाजी चैम्पियनशिप की प्रतियोगिता में भाग लेने आये सभी प्रतिभागियों को अपनी शुभकामनाएँ दी और अपेक्षा की कि सभी प्रतिभागीगण अपने-अपने कौशल का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करें. मौके पर डीजीपी डीके पांडेय, एडीजी बीबी प्रधान,एडीजी अजय कुमार सिंह, आईजी प्रिया दुबे सहित पुलिस के कई वरीय अधिकारी मौजूद थे.