जम्मू कश्मीर में हालात सामान्य, आतंकी गतिविधियों पर लगी है लगाम : बिपिन रावत

जम्मू कश्मीर में हालात सामान्य, आतंकी गतिविधियों पर लगी है लगाम : बिपिन रावत-Panchayat Times

रामगढ. देश के पुराने बटालियनों में शामिल पंजाब रेजिमेंटल सेंटर के लिए बुधवार का दिन ऐतिहासिक दिन रहा. यहां थल सेना अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत खुद पहुंचे और पीआरसी के दो युवा बटालियन को “राष्ट्रपति निशान” सौंपा. उन्होंने पीआरसी के 29 पंजाब और 30 पंजाब को इस सम्मान से नवाजा.

थल सेना अध्यक्ष रावत ने इस मौके पर मीडिया से बातचीत में जम्मू-कश्मीर के हालात पर चर्चा की. उन्होंने कहा कि वहां के हालात सामान्य हो गए हैं. कुछ लोगों के द्वारा वहां पर ऐसी बातें फैलाई जा रही है कि लोगों को ना तो राशन मिल रहा है और ना ही रूटीन वर्क कर पा रहे हैं, लेकिन जम्मू-कश्मीर में सेना के जवान मुस्तैदी से खड़े हैं ताकि कश्मीरियों को किसी प्रकार की समस्या न हो.

उन्होंने संचार व्यवस्था बंद होने के मुद्दे पर कहा कि सामान्य लोगों को इससे कोई खासी परेशानी नहीं हो रही है. लेकिन जिस तरह से आतंकी गतिविधियां इस पूरे प्रदेश में पिछले 30 वर्षों से जारी थी, उस पर काफी हद तक लगाम लगा है. रावत ने कहा कि कश्मीर के बाजारों में सिर्फ सामने से शटर बंद दिख रहा है. लेकिन भारतीय सेना वहां के लोगों को सीधे घरों में सुविधा मुहैया करा रही है. उन्होंने कहा कि सेब के बागान में मजदूर लगे हुए हैं, झेलम नदी में रेक निकाले जा रहे हैं, सामानों की धुलाई हो रही है, ईट भट्टे सामान्य तौर पर काम कर रहे हैं. अगर यह सारी चीजें हो रही हैं तो वहां का बाजार पूरी तरीके से ठप नहीं है. वहां कुछ प्रतिबंध लगाए गए हैं और वह सिर्फ आतंकवादियों को फ्री मूवमेंट नहीं करने के लिए किए गए हैं. वहां के आम लोगों को सारी सुविधाएं मुहैया हो रही हैं.

उन्होंने कहा कि जब से जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाई गई है तब से वहां शांति का माहौल है. वहां सेना की तैनाती होने से आम लोगों को थोड़ी परेशानी तो हो रही है लेकिन जल्द ही हालात और सामान्य हो जाएंगे. सेना वहां सिर्फ और सिर्फ कश्मीरियों की सुरक्षा के लिए तैनात है ताकि कोई आतंकी गतिविधि वहां नहीं हो.

पाकिस्तान ऑक्यूपाइड कश्मीर (पीओके) के मुद्दे पर थल सेना अध्यक्ष ने कहा कि अभी वहां की आवाम भूकंप से पीड़ित है. वहां पाकिस्तानी सेना राहत और बचाव कार्य में लगी हुई है. भारत भी इंसानियत के तौर पर वहां की आवाम को मदद देने को तैयार है. फिलहाल टिप्पणी करना मुनासिब नहीं होगा.

 रिमझिम बारिश में “राष्ट्रपति निशान’’ प्रस्तुति परेड का हुआ आयोजन

पंजाब रेजिमेंटल सेंटर में ‘राष्ट्रपति निशान’ प्रस्तुति परेड का आयोजन किया गया. जिसमे भारतीय सेना के थल सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत द्वारा पंजाब रेजिमेंट की दो युवा बटालियन 29 पंजाब और 30 पंजाब को निशान प्रदान कर सम्मानित किया गया. इस आयोजन में बहुसंख्या में वरिष्ठ उच्च पदस्थ अधिकारी भी मौजूद थे. जिन्होने निशान परेड की शोभा बढ़ाई. निशान परेड के दौरान छह सैन्यदल एवं एक इंडियन एयर फोर्स की सारंग हैलिकॉप्टर टीम ने हिस्सा लिया. जिससे यह समारोह अविस्मरणीय बन गया. पंजाब रेजिमेंट भारतीय सेना की सबसे पुरानी एवं एक सबसे बड़ी इन्फैन्ट्री रेजिमेंट हैं. जिसके पास स्वतन्त्रता पूर्व एवं पश्चात के युद्ध क्षेत्र में बहादुरी के बहुत से अभिलेख दर्ज हैं.

पंजाब रेजिमेंट को 69 युद्ध सम्मान प्रदान किए गए. जो कि भारतीय सेना की सभी रेजिमेंट में से सबसे अधिक हैं. पंजाब रेजिमेंट ने स्वतन्त्रता पूर्व 11 विक्टोरिया क्रॉस और स्वतन्त्रता पश्चात 01 अशोक चक्र, 19 महावीर चक्र, 11 कीर्ति चक्र, 64 वीर चक्र और 83 शौर्य चक्र भी हासिल किए हैं. थल सेनाध्यक्ष ने परेड की समीक्षा की और अपने सम्बोधन के दौरान अपने रेजिमेंट के अत्यधिक प्रयास एवं समृद्ध परम्पराओं के साथ-साथ विभिन्न क्षेत्रों जैसे युद्ध, संचालन, खेल, प्रशिक्षण में भव्य प्रदर्शन की सराहना की. सेना प्रमुख ने नवनिर्मित यूनिटों को अपनी सेवा के शुरुआती चरणों मे शानदार प्रदर्शन के लिए बधाई दी.