हिमाचल में खुलेगी सेना भर्ती कोचिंग अकादमी : महेन्द्र सिंह ठाकुर

हिमाचल में खुलेगी सेना भर्ती कोचिंग अकादमी : महेन्द्र सिंह ठाकुर-Panchayat Times
ठाकुर महेन्द्र सिंह(फाइल फोटो)

शिमला. हिमाचल प्रदेश में सेना में सिपाही से लेकर अधिकारी तैयार करने के लिए शीघ्र ही राज्य स्तरीय अकादमी की स्थापना की जाएगी. राज्य सरकार ने इसकी कवायद भी शुरू कर दी है. यह बात सैनिक कल्याण मंत्री महेन्द्र सिंह ने बुधवार को यहां सैन्य अधिकारियों और सैनिक कल्याण बोर्ड के अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही.

उन्होंने कहा कि प्रदेश में अकादमी खोलने के पीछे मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर की सोच रही है और आज उन्हीं के निर्देशानुसार एक विशेष बैठक का आयोजन किया गया. अकादमी का उद्देश्य भारतीय सेना में प्रदेश से अधिक से अधिक युवाओं की भागीदारी सुनिश्चित बनाना है. इसके अतिरिक्त, राज्य से सेना में अधिकारियों की संख्या को बढ़ाना भी है.

भर्ती अकादमी सेना के लिए ऐसे पढ़े-लिखे युवाओं को प्रोत्साहित और तैयार करेगी है, जो गरीब और ग्रामीण परिवेश से आते हैं और थोड़े सी कमियों के कारण भर्ती नहीं हो पाते हैं. अकादमी में बच्चे की योग्यता के अनुसार सिपाही से लेकर एसएसबी तक की कोचिंग की सुविधा होगी.

महेन्द्र सिंह ठाकुर ने कहा कि अकादमी में दूर-दराज और दुर्गम क्षेत्रों के बच्चों को भर्ती रैलियों के लिए तैयार कर सेना में उनका प्रतिनिधित्व बढ़ाया जाएगा. कोचिंग प्रशिक्षित सेना अधिकारियों की ओर से दी जाएगी. उन्होंने कहा कि इस संबंध में जिला स्तर पर उपायुक्तों की अध्यक्षता में समितियों का गठन किया जा चुका है. संबंधित जिले के पुलिस अधीक्षक, मुख्य चिकित्सा अधिकारी और उपनिदेशक उच्च शिक्षा समिति के सदस्य होंगे. समितियां बच्चों को उनकी योग्यता के अनुरूप कोचिंग के लिए प्रेरित करेंगी और समाज में इस संबंध में जागरुकता भी उत्पन्न करेंगी. इसके अलावा समितियां भर्ती रैलियों में भी मदद करेंगी. इन सभी कार्यकलापों का खर्च राज्य सैनिक कल्याण बोर्ड की ओर से वहन किया जाएगा.

सैनिक कल्याण मंत्री ने स्कूल शिक्षा बोर्ड से बच्चों के प्रमाणपत्र समयबद्ध सत्यापित करने के निर्देश दिए साथ ही उन्होंने सत्यापन शुल्क को मौजूदा 600 रुपए से 300 रुपए करने को भी कहा. उन्होंने कहा कि समय पर शैक्षिक प्रमाण पत्र और सत्यापन न किए जाने से बहुत से पात्र बच्चे सेना में भर्ती से वंचित रह जाते हैं. उन्होंने भर्ती निदेशकों से कहा कि उन्हें यदि राज्य में भर्ती प्रक्रिया के दौरान किसी भी विभाग से कोई समस्या आती है, तो इस संबंध में सचिव अथवा निदेशक सैनिक कल्याण बोर्ड को सूचित करें. उन्होंने आश्वासन दिया कि भर्ती रैलियां बिना किसी बाधा के सुनिश्चित बनाई जाएंगी.

सचिव सैनिक कल्याण बोर्ड डॉ. आर.एन. बत्ता ने कहा कि अकादमी खोलने को लेकर सभी आवश्यक औपचारिकताएं शीघ्र पूरी की जाएगी. इस संबंध में समीक्षा बैठक नवम्बर महीने में शिमला में आयोजित की जाएगी.

निदेशक सैनिक कल्याण बोर्ड ब्रिगेडियर एस. के. वर्मा ने बताया कि आगामी अक्टूबर में मंडी और चंबा जिलों में सेना भर्ती रैलियां आयोजित की जाएंगी. जनवरी, 2019 में हमीरपुर में भर्ती रैली का आयोजन किया जाएगा.

भर्ती निदेशक पालमपुर कर्नल रामाकृष्णा, भर्ती निदेशक मंडी कर्नल सोम राज गुलिया, भर्ती निदेशक शिमला कर्नल विकास गुप्ता और आर.एम. हमीरपुर मेजर लिन्टो मांजली बैठक में उपस्थित थे.