15 से 18 आयु वर्ग के बच्चों को कोरोनारोधी टीका देने की हुई शुरूआत, 40 लाख से अधिक बच्चों ने कराया पंजीकरण, जानिए भारत में कहां तक पहुंचा कोविड-19 टीकाकरण अभियान

15 से 18 आयु वर्ग के बच्चों को कोरोनारोधी टीका देने की हुई शुरूआत, 40 लाख से अधिक बच्चों ने कराया पंजीकरण, जानिए भारत में कहां तक पहुंचा कोविड-19 टीकाकरण अभियान - Panchayat Times
Vaccination Drive in a School in MP Photo :- Social Media

नई दिल्ली. लगातार बढ़ते कोरोना मामलों के बीच आज से देश में 15 से 18 आयु वर्ग के बच्चों को कोरोनारोधी टीका देने की शुरूआत हो गई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देशभर में 44 लाख 93 हजार 885 बच्चों ने सरकार के कोविन (CoWin) ऐप पर कोरोनारोधी टीका लेने के लिए अपना पंजीकरण कराया है.

कौन सा टीका दिया जायेगा

केंद्र सरकार द्वारी जारी किये गये दिशानिर्देशों के अनुसार 15 से 18 वर्ष के सभी बच्चों को कौवेक्सीन (Covaxin) का टीका लगाया जाएगा. टीकाकरण कार्यक्रम स्कूलों की सलाह से अस्पतालों और स्वास्थ्य केंद्रों में आयोजित किया जा रहा है. टीकाकरण केंद्रों के रूप में बड़ी संख्या में स्कूलों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों का इस्तेमाल किया जा रहा है.

देश में कोरोनारोधी टीके की स्थिति

टीके की खुराकें(3 जनवरी, 2022 तक)
अब तक हुई आपूर्ति1,52,52,23,275
शेष टीके19,84,31,861
स्वास्थ्य मंत्रालय

कौन लगवा सकते है टीका

जारी दिशानिर्देंशो के अनुसार साल 2007 और उससे पहले पैदा हुए बच्चे कोरोना का टीका लगवा सकते हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि किशोरों को केवल कौवेक्सीन (Covaxin) की डोज लगाई जाएगी और टीके की अतिरिक्त खुराक सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को भेज दगी जाएगी.

कब हुआ था ऐलान

25 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐलान किया था कि 15-18 वर्ष आयु वर्ग के लिए टीकाकरण 3 जनवरी से शुरू होगा. इसके अलावा घोषणा की थी कि हेल्थ वर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर और अन्य बीमारियों से ग्रसित वरिष्ठ नागरिकों को ‘Precaution’ डोज 10 जनवरी से लगाई जाएगी.

भारत में कब से शुरू हुआ था टीकाकरण

भारत में कोरोना टीकाकरण की शुरूआत पिछले साल 16 जनवरी 2021 से हुई थी और अब तक 90 फीसदी से अधिक पात्र नागरिकों को पहली खुराक और 65 फीसदी लोगों को दूसरी खुराक दी गयी है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, 11 से अधिक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने पहले ही 100 प्रतिशत पहली खुराक टीकाकरण का लक्ष्य हासिल कर लिया है, जबकि तीन राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने 100 प्रतिशत पूर्ण टीकाकरण का लक्ष्य हासिल कर लिया है. इसके अलावा कई राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के जल्द ही 100 प्रतिशत टीकाकरण हासिल करने की उम्मीद है.