पांच साल से सजा काट रहे आसाराम की पैरोल याचिका टली

जोधपुर जेल में सजा काट रहे आसाराम की पैरोल याचिका... - Panchayat Times

जोधपुर. अपने ही आश्रम की नाबालिग छात्रा से यौन शोषण के आरोप में जोधपुर जेल में सजा काट रहे आसाराम की पैरोल याचिका पर शुक्रवार को हाईकोर्ट जस्टिस संगीत लोढ़ा और जस्टिस दिनेश मेहता की खंडपीठ में सुनवाई टल गई. अब यह सुनवाई 19 दिसम्बर को होगी.

आसाराम के भांजे रमेश भाई ने आसाराम की ओर से याचिका पेश कर पैरोल की मांग की है. पूर्व में आसाराम की ओर से रमेश भाई ने जिला पैरोल कमेटी के समक्ष पैरोल अर्जी पेश की थी. अर्जी में इस नियम का हवाला दिया गया था कि जब कोई सजायाफ्ता एक चौथाई सजा को पूरी कर लेता है तो वह पैरोल का हकदार होता है. आसाराम ने भी पांच साल से ज्यादा सजा जोधपुर की जेल में काट ली है, लेकिन जिला पैरोल कमेटी ने अर्जी को खारिज कर दिया था. अब आसाराम की ओर से हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया है.

ये भी पढ़ी- ड्राईवर ने की थी मालकिन की निर्मम हत्या, फांसी की सजा मुकर्र

इसमें सरकार की ओर से पेश जवाब में तर्क दिया गया है कि आसाराम को मृत्यु तक आजीवन कारावास की सजा से दंडित किया है, ऐसे में शेष सजा की गणना कैसे की जाए. जवाब में यह भी कहा गया कि महानिदेशक (जेल) ने आसाराम को पैरोल के संबंध में राज्य सरकार से विधिक राय भी मांगी थी, जिसमें भी पैरोल देने से इनकार किया गया है. जवाब में यह भी बताया गया कि इस प्रकरण के अलावा आसाराम के खिलाफ तीन अन्य प्रकरण भी विचाराधीन हैं.

उल्लेखनीय है कि आजीवन कारावास की सजा में पांच साल जेल को एक चौथाई मान लिया जाता है लेकिन गत 25 अप्रेल को एससी-एसटी एक्ट कोर्ट जज मधुसूदन शर्मा की कोर्ट ने आसाराम को जीवन की आखिरी सांस तक जेल में रखने की सजा सुनवाई थी. अब ऐसे में देखने वाली बात यह है कि खंडपीठ इस अवधि को चौथाई स्वीकार करती है या नहीं. इसी के आधार पर तय होगा कि आसाराम को राहत मिलेगी या नहीं. इस याचिका पर अब 19 दिसम्बर को सुनवाई होगी.