राष्ट्रपति से हिमाचल के इस गांववालों ने सामूहिक इच्छा मृत्यु मांगी

नालागढ़ के तहसीलदार के माध्यम से राष्ट्रपति और राज्यपाल से सामूहिक इच्छा मृत्यू

सोलन. बद्दी में मलपुरा पंचायत के तहत गांव केंदुवाला के लोगों ने नालागढ़ के तहसीलदार के माध्यम से राष्ट्रपति और राज्यपाल से सामूहिक इच्छा मृत्यु की मांग के लिए ज्ञापन सौंपा है. बता दें कि गांववाले सीईटीपी और कचरा प्लांट की बदबू और गंदगी से बेहद दुखी हैं.

10 दिन का अल्टीमेंट

दून हल्के की ग्राम पंचायत मलपुर के तहत गांव निचला मलपुर और भुड्ड निचली के ग्रामिणों ने सीईटीपी केंदूवाला और साथ लगते कचरा प्लांट से दुखी लोग तहसीलदार नालागढ़ के समक्ष पेश हुए. ग्रामीणों ने एकत्रित होकर भारत के राष्ट्रपति और प्रदेश के राज्यपाल से इच्छा मृत्यु की मांग तहसीलदार के माध्यम सौंपा. जबकि इससे पहले ग्रामीण सीईटीपी प्रबंधन और प्रशासन को 10 दिन का अल्टीमेंट भी दे चुके हैं.

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड खामोश

लोगों का कहना है कि दिनों-दिन नासूर हो चुकी समस्या पर न तो सीईटीपी, न ही प्रदूषण विभाग और न ही प्रशासन तथा सरकार की नींद टूट रही है. बैठक में ग्रामीणों ने बताया कि केंदूवाला स्थित सीईटीपी प्लांट और बिल्कुल साथ सटे कचरा प्लांट की बदबू ने निचला मलपुर और निचली भुड्ड के लोगों का जीना दूभर कर दिया है. लंबे समय से ग्रामीण इस बदबू से निजात दिलाने की मांग सीईटीपी प्रबंधन और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से कर चुके हैं. बावजूद इसके समस्या का कोई समाधान नहीं निकल रहा है.

ये भी पढ़ें- हिमाचल खादी बोर्ड के आधे पद खाली, कैसे पूरा होगा गांधी…

सांस लेना और दो वक्त की रोटी खाना भी मुश्किल

लोगों का कहना है कि रिश्तेदारों ने उनके घर आना ही छोड़ दिया है. क्योंकि सीईटीपी और कचरा प्लांट की तेज बदबू से सांस लेना और दो वक्त की रोटी खाना भी मुश्किल हो गया है. लोगों ने बताया कि जब से यह सीईटीपी प्लांट और कचरा प्लांट लगा है निचली भुड्ड और निचला मलपुर में बेतहाशा मक्खियां और मच्छर हैं. बदबू और मक्खी-मच्छरों की भरमार के कारण लोगों को अपने घरों के दरवाजे बंद करके कैद होना पड़ता है. नालागढ़ के तहसीलदार केशव राम कोली ने बताया की लोगों का प्रतिनिधिमंडल ने उनसे मुलाकात की है. लोगों ने राष्ट्रपति और राजयपाल के नाम ज्ञापन सौंपा है. जिसको सरकारी प्रक्रिया के तहत सरकार को भेज दिया जाएगा.