भारत बंद का झारखंड में मिला-जुला असर, सभी जिलों में अलर्ट जारी

रांची. भारत बंद का रांची सहित झारखंड के कई हिस्सों में मिलाजुला असर रहा. पलामू, चतरा, गुमला, लातेहार, और गढ़वा जिलों में बंद से जनजीवन प्रभावित हुआ है. राज्य के कुछ हिस्सों में लंबी दूरी की ट्रेनें नहीं चल पाई हैं. वहीं राजधानी रांची सहित धनबाद और जमशेदपुर में बंद का असर नहीं दिख रहा है. रांची में एहतियातन स्कूलों को बंद कर दिया गया है. हालांकि अबतक किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है.  सवर्णों की ओर से आरक्षण के विरोध में मंगलवार को बंद किया गया है.

लोहरदगा में भारत बंद को लेकर यात्री वाहनों का परिचालन ठप है. लेकिन दुकानें खुली हुई हैं. यहां पर पुलिस को गश्त पर लगाया गया है. जामतारा में बंद का आंशिक असर देखने को मिल रहा है. यहां भी बंद समर्थक सड़कों पर नहीं उतरे हैं. हालांकि कई दुकानें बंद हैं.

कोडरमा में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. कोई भी संगठन बंद के समर्थन पर सड़कों पर नहीं है. हालांकि मंगलवार को कोडरमा के दुकानों की साप्ताहिक बंदी होती है. इसलिए आज दुकानें बंद हैं.

चतरा के केसरी चौक पर बंद समर्थकों ने रोड जाम किया है. एनएच 100 पर कई जगह यातायात प्रभावित हुए हैं, गाड़ियां कम चल रही हैं. वहीं एनएच 33 पर अबतक यातायात सामान्य है.

धनबाद और हजारीबाद में बंद का कोई असर नहीं दिख रहा है. यहां पर सामान्य दिनों की तरह दुकानें खुली हैं और सड़कों पर गाड़ियां चल रही हैं. कोई भी बंद समर्थक संगठन सड़क पर नहीं उतरा है. पुलिस क्षेत्र में गश्त कर रही है.

मालूम हो कि बंद को लेकर कोई संगठन सामने नहीं आया है. सोशल मीडिया पर भारत बंद को लेकर पोस्ट वायरल हो रहा है. कुछ पोस्ट में आरक्षण के विरोध में भारत बंद करने की बात कही जा रही है. इसके साथ ही सोशल मीडिया पर कहा जा रहा है कि दो अप्रैल को एसटी/एससी एक्ट में किए गए संशोधन के विरोध में भारत बंद के दरम्यान हुए उपद्रव के विरोध में सवर्णों ने भारत बंद किया है.

पुलिस मुख्यालय से जारी अलर्ट के अनुसार दस अप्रैल के भारत बंद का एससी/एसटी समुदाय के लोग विरोध कर सकते हैं, जिससे विधि-व्यवस्था संबंधी दिक्कतें आ सकती हैं. प्रशासन की ओर से सभी जिले को अलर्ट रहने और विधिसम्मत कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं.