भूपेश बघेल ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ

भूपेश बघेल ने सोमवार को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली

रायपुर. सोमवार को कांग्रेस नेता भूपेश बघेल को इंडोर स्टेडियम में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के रूप में पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ के तीसरे और दूसरे निर्वाचित मुख्यमंत्री बने. शपथ ग्रहण में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, मनमोहन सिंह समेत गठबंधन के तमाम नेता मौजूद रहे.

शपथ से कुछ घंटे पहले ही बारिश के चलते समारोह स्थल को बदलना पड़ा. पहले शपथ ग्रहण साइंस कॉलेज मैदान में कराने की योजना थी, जिसे बाद में बलवीर सिंह जुनेजा इनडोर स्टेडियम में संपन्न किया गया.

यह नेता भी रहे मौजूद

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, शरद यादव, नवजोत सिंह सिद्धू, सचिन पायलट, राज बब्बर, जतिन सिंह, नवीन जिंदल, राजीव शुक्ला, आनंद शर्मा, गुरुदास कामत, मल्लिकार्जुन खड़गे, मोहसीना किदवई, प्रमोद तिवारी, फारूख अब्दुल्ला, नारायण सामी और अशोक गहलोत सहित कई नेता इस समारोह का हिस्सा बने.

ये भी पढ़ें- 76 प्रतिशत मतदान के साथ छत्तीसगढ़ में लोकतंत्र का महापर्व संपन्न

इससे पहले भूपेश बघेल ने स्वयं रायपुर के माना ऐयरपोर्ट पर राहुल गांधी और मनमोहन सिंह का स्वागत किया. छत्तीसगढ़ में पंद्रह वर्षों तक सत्ता की बागडोर संभालने वाले डॉ. रमन सिंह को समारोह में शामिल होने का न्यौता खुद नव निर्वाचित मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने फोन पर दिया था. वहीं पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने रविवार को ट्वीट कर नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को बधाई और शुभकामनाएं दी थी.

ऐसा है छत्तीसगढ़ के नए सीएम का सियासी सफर

छत्तीसगढ़ के तीसरे नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का जन्म 23 अगस्त 1961 को राजधानी रायपुर में हुआ. उनके पिता नंदकुमार बघेल दुर्ग जिले के पाटन क्षेत्र के प्रगतिशील कृषक हैं. भूपेश बघेल तत्कालीन अविभाजित मध्यप्रदेश की विधानसभा के लिए पहली बार वर्ष 1993 में विधायक निर्वाचित हुए. इसके बाद उन्होंने वर्ष 1998, वर्ष 2003 और वर्ष 2013 में भी विधायक के रूप में क्रमशः मध्यप्रदेश और राज्य बनने के बाद छत्तीसगढ़ की विधानसभा में पाटन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया.

बघेल पांचवी बार इस वर्ष 2018 में छत्तीसगढ़ विधानसभा के आम चुनाव में पाटन क्षेत्र से विधायक निर्वाचित हुए हैं. साहित्य पठन, योग और खेल-कूद की गतिविधियों में उनकी विशेष अभिरूचि है. उन्होंने 19 जुलाई 2000 को रायपुर और 30 अगस्त 2000 को बिलासपुर में विशाल स्वाभिमान रैलियों का सफलतापूर्वक आयोजन किया. रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग और सेलूद में छत्तीसगढ़ मनवाकुर्मी समाज द्वारा आयोजित वृहद सामूहिक विवाह समारोहों के सफल आयोजन में भी उन्होंने महत्वपूर्ण योगदान दिया.

भूपेश बघेल तत्कालीन अविभाजित मध्यप्रदेश सरकार में वर्ष 1998 में मुख्यमंत्री से सम्बद्ध राज्य मंत्री और जनशिकायत निवारण विभाग के स्वतंत्र प्रभार के राज्य मंत्री के रूप में, वर्ष 1999 में परिवहन विभाग के मंत्री के रूप में और वर्ष 2000 में छत्तीसगढ़ राज्य के गठन के बाद छत्तीसगढ़ शासन के राजस्व, पुनर्वास, राहत कार्य और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभागों के मंत्री के रूप में जनता को अपनी उल्लेखनीय सेवाएं दी. भूपेश बघेल वर्ष 2013 में छत्तीसगढ़ विधानसभा की कार्यमंत्रणा समिति और वर्ष 2014-15 में लोकलेखा समिति के सदस्य रह चुके हैं.