बिलासपुर अस्पताल में सुरक्षा भगवान भरोसे, स्वास्थ्य मंत्री का गृह क्षेत्र

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा के गृह क्षेत्र बिलासपुर के सबसे बड़े अस्पताल में मरीजों
प्रतीक चित्र

श्री नैना देवी जी (बिलासपुर). केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा के गृह क्षेत्र बिलासपुर के सबसे बड़े अस्पताल में मरीजों की सुरक्षा राम भरोसे है. अस्पताल के आपातकालीन वार्ड में एक्सपायरी डेट के अग्निशमन यंत्र टंगे हुए हैं. अगर कभी अस्पताल में आगजनी की घटना होती है तो क्या ये एक्सपायरी डेट के अग्निशमन यंत्र मरीजों की आग से रक्षा कर पाएंगे, ये बड़ा सवाल है.

हैरानी की बात है कि कुछ दिन पहले भी मीडिया की तरफ से अस्पताल के आपातकालीन वार्ड में एक्सपायर डेट के अग्निशमन यंत्र का मुद्दा उठाया गया था लेकिन 2 सप्ताह गुजरने के बाद भी इन यंत्रों को नहीं बदला गया है. मीडियाकर्मियों ने जब अग्निशमन यंत्र को चेक किया तो वहां पर जो उनके ऊपर तिथि निर्धारित की गई थी वह एक्सपायर हो चुकी है. साफ अक्षरों में लिखा है कि 5 अप्रैल 2018 के बाद इसे प्रयोग नहीं किया जा सकता.

ये भी पढ़ें- डिजिटल इंडिया के सपने को पूरा करता सोलन पोस्ट ऑफिस

सैकड़ों मरीज रोजाना अस्पताल में इलाज के लिए आते हैं, ऐसे में अगर कोई अनहोनी होती है तो मरीजों की सुरक्षा का क्या होगा ? ये एक बड़ा सवाल है. शुक्रवार को जब स्थानीय लोग, मीडियाकर्मियों को इस बारे में दोबारा जानकारी दे रहे थे तो अस्पताल में तैनात सुपरवाइजर ने उनके साथ हाथापाई शुरू कर दी और जबरन कैमरे छीनने लगे. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा के गृह जिला बिलासपुर में सरकारी अस्पताल का ये हाल है तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि पूरे हिमाचल में अस्पतालों की क्या स्थिति होगी.