निद्रोषों की हत्या पर जवाब दे, देशद्रोहियों के मुकदमे वापस लेने वाली सरकार : अरुण सिंह

निद्रोषों की हत्या पर जवाब दे, देशद्रोहियों के मुकदमे वापस लेने वाली सरकार : अरुण सिंह - Panchayat Times

रांची. भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री व राज्य सभा सदस्य अरुण सिंह ने बिते शुक्रवार को भाजपा प्रदेश कार्यालय में आयोजित प्रेसवार्ता में कहा कि झारखंड में जंगल राज की शुरुआत हो गई है, सरकार गठन के एक माह के अंदर ही कानून व्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है.

अरुण ने कहा कि यह कैसी सरकार है जिसके बनते ही देशद्रोहियों के मुकदमे वापस होते हैं और आदिवासियों का वीभत्स नरसंहार होता है. सिंह ने लोग इतने कम समय में ही त्राहिमाम कर रहे हैं. कांग्रेस, झामुमो, राजद तुष्टिकरण की राजनीति कर रही है.

गिरिडीह, लोहरदगा में घटी घटनाएं ताजा उदाहरण

उन्होंने कहा कि गिरिडीह, लोहरदगा में घटी घटनाएं इसका ताजा उदाहरण है. तुष्टिकरण कांग्रेस पार्टी के फितरत में शामिल है. जबकि वामपंथी पार्टियां इसका ताना बाना बुनती है. उन्होंने कहा कि तबरेज अंसारी की हत्या पर कांग्रेस के नेता ट्वीट करने में नही चूकते पर पथराव,आगजनी और आदिवासियों की हत्या पर वे बिल्कुल चुप हैं.

अरुण ने कहा कि चाईबासा जैसा नरसंहार देश के किसी कोने में पहले नहीं हुआ. पिता के सामने पुत्र की हत्या हुई, पत्नी के सामने पति को मारा गया, शिर को धड़ से तीतर बितर कर फेंक दिया गया, लोगों में भय और दहसत है. जबकि यह सरकार दिल्ली दरबार का चक्कर लगा रही है. पर भारतीय जनता पार्टी चुप नही बैठने वाली.

निद्रोषों की हत्या पर जवाब दे, देशद्रोहियों के मुकदमे वापस लेने वाली सरकार : अरुण सिंह - Panchayat Times

उन्होंने कहा कि हेमंत सरकार कांग्रेस के दबाव में मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं कर पा रही.कांग्रेस पार्टी का पुराना इतिहास है. यह पार्टी समर्थन के बदले पूरा दाम वसूलती है तथा मौका निकालकर समर्थन वापस भी ले लेती है. अब हेमंत सोरेन को इस चरित्र का एहसास हो रहा होगा.

सरकारी योजनाओं का लाभ लेने वालों को किया जा रहा है दंडित

उन्होंने कहा कि यह कैसी सरकार है जहां सरकारी योजनाओं का लाभ लेने वालों को दंडित किया जा रहा है. सिंह ने कहा कि राहुल, प्रियंका, गुलाम नबी को चाईबासा के गुदड़ी आकर आदिवासी परिवारों से मिलना चाहिये और जिनका पुत्र, पिता या पति  मारा गया उसका दुख दर्द बांटना चाहिए.

प्रदेश भाजपा की संगठनात्मक जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में पार्टी को भले ही 25 सीटें मिली हैं लेकिन अकेले भाजपा को सर्वाधिक 50 लाख मत मिलें हैं जबकि तीन दलों के गठबंधन को 52 लाख मत मिले. प्रदेश की जनता ने भाजपा को सर्वाधिक मत दिया है.