बोकारो में पुलिसकर्मी जर्जर भवन में काम करने को मजबूर

पुलिस केंद्र, बोकारो के पुलिसकर्मी जर्जर भवन में..- Panchayat Times

बोकारो. पुलिस केंद्र, बोकारो के पुलिसकर्मी जर्जर भवन में काम करने को विवश हैं. भवन की जो हालत है, वह कभी भी किसी बड़ी दुर्घटना को अंजाम दे सकती है. प्राप्त जानकारी के अनुसार हफ्ते में दो दिन पुलिस अधीक्षक, बोकारो इसी बिल्डिंग के कार्यालय में बैठकर पुलिसकर्मियों के कल्याण एवं विधि व्यवस्था ड्यूटी से संबंधित कार्यों का निष्पादन किया करते हैं, परंतु जर्जरता का निदान नहीं हो सका है.

पुलिस मेंस एसोसिएशन के शाखा पदाधिकारियों एवं पुलिसकर्मियों ने इस समस्या के निदान को लेकर कई बार परिचारी प्रवर के साथ-साथ संबंधित समक्ष अधिकारियों को लिखा भी, परंतु अब तक कोई कारगर कदम नहीं उठाया जा सका है. पुलिस मेंस एसोसिएशन झारखंड प्रदेश उपाध्यक्ष राकेश पांडेय का कहना है कि इस बारे में उन्होंने स्थानीय स्तर पर परिचारी प्रवर से मांग की थी, परंतु कुछ भी ठोस कदम नहीं उठाया गया, जिसके कारण उक्त भवन में काम करने वाले पुलिसकर्मियों की जान खतरे में है. जल्दी इसकी वैकल्पिक व्यवस्था नहीं करायी गया तो पुलिस केंद्र बोकारो में एक बड़ी घटना घट सकती है.

ये भी पढ़ें- स्कूल मर्जर होने पर बच्चों को साईकिल देगी रघुवर सरकार

इस संबंध में पूछे जाने पर परिचारी प्रवर श्याम बिहारी सिंह ने दूरभाष पर कहा कि वह भवनों की समस्या को लेकर विगत दो वर्षों से पत्राचार कर रहे हैं. मुख्यालय को अवगत कराया गया है. लगभग डेढ वर्ष पूर्व आकलन समिति के लोग यहां से आकलन लेकर चले गये थे, परंतु आज तक कार्रवाई नहीं हुई. आगे की कार्रवाई उनके बस की बात नहीं है.

उन्होंने यह भी कहा कि लगातार मांगों को रखने का ही नतीजा है कि यहां आवासीय भवन का निर्माण हुआ, परिसर की चहारदीवारी से घेराबंदी हुई. आगे भी जल्द ही भवन की जर्जरता को लेकर ठोस कदम उठाये जायेंगे. उन्होंने यह भी बताया कि संभव है कि आवश्यकता और प्राथमिकता के अनुसार मुख्यालय स्तर पर कार्रवाई की जाय. इस मामले में झारखंड पुलिस मेन्स एसोसिएशन के प्रदेश संयुक्त महामंत्री सभापति पांडेय ने भी संघ के स्तर से भवनों की समस्या के समाधान को लेकर लगे होने की बात कही. हाउसिंग बोर्ड से मामले को मुख्यालय स्तर पर भेजा गया है. बहुत जल्द काम शुरू होने की संभावना है.