पलामू में नक्सल को ना और मतदान को हां

नई दिल्ली. आम चुनाव के छठे चरण में सात राज्यों की 59 सीटों पर रविवार
प्रतीक चित्र

पलामू. मतदान को लेकर नक्सलियों की पोस्टरबाजी और पर्चा का कोई असर मतददाताओं में नहीं हुआ. नक्सल प्रभावित इलाके में सोमवार को सुबह से ही लोग अपने घरों से निकल कर वोट देने निकले. शहरी क्षेत्रों में भी पति और पत्नी दोनों साथ मतदान केंद्रों पर मत देने के लिए सुबह ही घरों से निकले. दस बजे तक वोट देकर अपने घरों में घुस गए.

कई जगहों पर इवीएम मशीनें खराब होने की शिकायतें मिली. जिस कारण देरी से वोटिंग शुरू हुई. जानकारी अनुसार पलामू लोकसभा कि दर्जनों मतदान केन्द्रों मे ईवीएम खराबी से मतदाता काफी परेशान रहे. प्रचंड गर्मी में भी लंबी लाइन में खड़े रहे और इवीएम के ठीक होने की प्रतीक्षा करते रहे.

ये भी पढ़ें- हजारीबाग में कांग्रेस उम्मीदवार के कमरे से 22 लाख मिले

जिन बूथों पर इवीएम के खराब होने की शिकायत मिली उनमें डालटनगंज विस क्षेत्र के मेदिनीनगर शहर के पुलिस लाइन बूथ संख्या 155, बूथ संख्या 181, बीएन कॉलेज के पास बालिका मध्य स्कूल का 154 बूथ, चैनपुर प्रखंड के 132 बूथ संख्या, हुसैनाबाद विस क्षेत्र के हैदरनावर के बूथ संख्या 101, हैदरनगर के 89, छत्तरपुर विस क्षेत्र के बूथ संख्या और हरिहरगंज के कन्या मध्य स्कूल के 311 बूथ शामिल हैं.

उक्त बूथ संख्या पर इवीएम में गड़बड़ी व कहीं देरी से शुरू होने की शिकायतें थीं. वहीं, मेदिनीनगर शहर के 70 वर्षीय बुजुर्ग जो हिप रिप्लेसमेंट का ऑपरेशन हुआ है, वे धोबी मुहल्ले में स्थित बूथ पर मत देने पहुंचे. कई बुजुर्गों ने भी अपने परिजनों का सहारा लेकर इस उत्सव में बढ़ चढ़ के हिस्सा लिया .