चंबा की गुच्छी, मंडी की सेपू वड़ी और कांगड़ा के मदरा का स्वाद चखेंगे राष्ट्रपति

राष्ट्रपति चंबा की गुच्छी, मंडी की सेपू वड़ी और कांगड़ा के मदरा का स्वाद चखेंगे राष्ट्रपति

नई दिल्ली. भारत का राष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार शिमला आ रहे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के स्वागत की तैयारियां शुरू हो गई हैं. देश के सर्वोच्च नागरिक के अभिनंदन में 20 मई को राजभवन में रात्रिभोज का आयोजन किया जाएगा और राष्ट्रपति के डिनर में चंबा की गुच्छी, मंडी की सेपू वड़ी, कांगड़ा का मदरा और कुल्लू के देसी घी के सिड्डू विशेष व्यंजन को विशेष रूप से राष्ट्रपति के रात्रि भोज में परोसा जाएगा. इसके साथ ही दो दर्जन के करीब हिमाचली व्यंजन राष्ट्रपति के रात्रि भोज में परोसे जाएंगे.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 20 मई से लेकर 24 मई तक शिमला में रहेंगे. इस दौरान वह राष्ट्रपति आवास ‘द रिट्रीट’ में रुकेंगे. शिमला के समीप छराबड़ा स्थित ‘द रिट्रीट’ में ठहरेंगे. राष्ट्रपति की मेजबानी के लिए राजभवन पुख्ता प्रबंधों में जुट गया है. मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर की अध्यक्षता में गुरुवार को राष्ट्रपति के प्रदेश दौरे के लिए राज्य सरकार द्वारा की जा रही तैयारियों की समीक्षा बैठक आयोजित की गई. मुख्यमंत्री ने सभी अधिकारियों को राष्ट्रपति के दौरे के लिए उचित तैयारियां करने के निर्देश दिए.

20 मई से शिमला से चलेगा राष्ट्रपति भवन

उन्होंने कहा कि इस दौरे के दौरान विश्वसनीय सुरक्षा प्रबंधों को सुनिश्चित बनाया जाएगा. वाहनों के सुचारू संचालन को सुनिश्चित बनाने के लिए भी अधिकारियों को निर्देश दिए, ताकि आम जनमानस तथा पर्यटकों को असुविधा का सामना न करना पड़े. मुख्यमंत्री ने सड़कों तथा हेलिपैड की उचित देखभाल के लिए भी अधिकारियों को निर्देश दिए. समीक्षा बैठक में मुख्य सचिव विनीत चौधरी, अतिरिक्त मुख्य सचिव बी.के. अग्रवाल, डॉ. श्रीकांत बाल्दी तथा मनीषा नंदा, पुलिस महानिदेशक एसआर मरड़ी, उपायुक्त शिमला अमित कश्यप, नगर निगम शिमला के आयुक्त रोहित जम्वाल, निदेशक सूचना एवं जन संपर्क विभाग अनुपम कश्यप, पुलिस अधीक्षक उमापति जम्वाल, जीएडी के विशेष सचिव सुनील शर्मा तथा राज्य सरकार के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित रहे.

रात्रि भोज में मेहमानों को यह व्यंजन भी परोसा जाएगा :

राष्ट्रपति के सम्मान में शिमला में दिए जाने वाले रात्रि भोज में पंपकिन सूप विद सौंफ, केसरी सुल्ताना पुलाव, स्टीम्ड बासमती, गुच्छी, बीरबली पनीर के शोले, दिलकश कोफता कड़ी, लिंगड़ू दहीवाला, सेपू वड़ी, सिड्डू घी, मंगोरी मटर, भरवां आलू की तरकारी, सब्ज हांडी मिलौनी, कुरकुरी भिंडी, चना मदरा, दाल टिरकी, उल्लपी व बीटरूट रायता, गार्डन फ्रेश, रॉमनस सीजर, स्प्रिंगटाइम, मिसी रोटी, नान, तंदूरी रोटी, लच्छा परांठा, बाथू की खीर, चना पाईश, पन्ना कोटा विद निब्ड आल्मंड टूलिप और चॉकलेट वनीला आइसक्रीम भी प्रमुख रूप से शामिल रहेगा.

राष्ट्रपति को डाक्टरेट ऑफ साइंस की मानद उपाधि से नवाजा जाएगा :

हिमाचल प्रदेश की वादियों में स्थित डा. यशवंत सिंह परमार नौणी (सोलन) विश्वविद्यालय पहली मर्तबा राष्ट्रपति को डाक्टरेट ऑफ साइंस उपाधि से नवाजेंगे. जानकारी के अनुसार डा. वाईएस परमार नौणी विश्वविद्यालय में 22 मई को 9वें दीक्षांत समारोह में भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बतौर मुख्यातिथि शिरकत करेंगे व विश्वविद्यालय के 465 विद्यार्थियों को डिग्री व नौ विद्यार्थियों को गोल्ड मेडल प्रदान किए जाएंगे.

बताया जा रहा है कि इस दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को मानद उपाधि से सम्मानित किया जाएगा. गौर रहे कि करीब 30 वर्षों के बाद विश्वविद्यालय में राष्ट्रपति बच्चों को डिग्री प्रदान करेंगे. डा. वाईएस परमार नौणी विश्वविद्यालय के सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी सुचेत्र अत्री ने बताया कि दीक्षांत समारोह के दौरान राष्ट्रपति को मानद उपाधि से सम्मानित किया जाएगा.