नरेंद्र मोदी आएं या अमित शाह, कोई फर्क नहीं पड़ने वाला : गहलोत

नरेंद्र मोदी आएं या अमित शाह, कोई फर्क नहीं पड़ने वाला : गहलोत-Panchayat Times
नरेंद्र मोदी आएं या अमित शाह, कोई फर्क नहीं पड़ने वाला : गहलोत

जोधपुर (जयपुर). पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) अशोक गहलोत ने कहा कि यहां नरेंद्र मोदी आएं या अमित शाह, कोई फर्क नहीं पड़ने वाला. प्रदेश की जनता अपना मन बना चुकी है कि उसे किसे चुनना है. गहलोत बुधवार को यहां लूणी विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस प्रत्याशी महेंद्र विश्नोई के समर्थन में चैखा में आयोजित चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे. इसके बाद उन्होंने घंटाघर में आयोजित सभा को भी संबोधित किया. बुधवार शाम पांच बजे भौंपू चुनाव प्रचार थम गया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभा के दो दिन बाद पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बुधवार को अपने गृह नगर पहुंचे और यहां दिनभर चुनाव प्रचार किया. उन्होंने अपने चुनाव प्रचार की शुरुआत चैखा में आयोजित सभा से की. यहां उन्होंने कहा कि जब मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अपनी गौरव यात्रा निकाली तो मैंने उनसे कहा कि यह गौरव यात्रा नहीं आपकी विदाई यात्रा है. इसके बाद वे काले झंडे देखने पर भड़क गईं. तक मैंने कहा कि काले रंग से क्यूं चिढ़ती हैं, मां भी अपने बेटे को काला टीका लगाती है. इससे नाराज होकर वे हेलिकॉप्टर पर बैठकर घूमने लगी हैं.

पाली पहुंच मोदी ने राहुल को दी ये बड़ी चुनौती

गहलोत ने कहा कि भाजपा सरकार किसानों, भ्रष्टाचार और अर्थव्यवस्था के बारे में कुछ कार्य नहीं कर रही है. अपना हिसाब देने से बचने के लिए अब हनुमानजी की जाति बताने लग जाते हैं. सत्ता में बैठे लोग देश के लोगों को गुमराह कर रहे हैं. गहलोत ने कहा कि क्या हम लोग हिंदू नहीं हैं? मोदी के खिलाफ 69 प्रतिशत वोट पड़े हैं क्या वे लोग हिंदू नहीं हैं? मैं अपील करता हूं कि आप हमारे पक्ष में वोट दें. उन्होंने कांग्रेस के प्रत्याशियों के पक्ष में वोट देने की अपील की. उन्होंने कहा कि पीएम और सीएम सबके होते हैं सिर्फ अपनी पार्टी के नहीं. विपक्ष हमले करता है सरकार पर, लेकिन वे उलटी गंगा बहा रहे हैं और विपक्ष पर इलजाम लगाने में लगे हुए है.

चैखा में सभा के बाद गहलोत घंटाघर के लिए रवाना हो गए. घंटाघर में उन्होंने दोपहर में शहर जिला कांग्रेस कमेटी की तरफ से आयोजित सभा को संबोधित किया. उन्होंने यहां कहा कि जोधपुर के लोगों को अच्छी तरह से याद होगा कि वसुंधरा राजे ने किस तरह जोधपुर के साथ सौतेला व्यवहार किया. अब वक्त आ गया है कि यहां के लोग इस व्यवहार का कांग्रेस को विजयी बना बदला लें. उन्होंने शहर के लोगों से आह्वान किया कि इस बार जोधपुर शहर की तीनों सीटों पर कांग्रेस को भारी बहुमत से विजयी बनाए ताकि जिले की सभी दस सीटों पर कांग्रेस जीत सके.

गहलोत ने कहा कि पांच साल तक महारानी साहिबा ने कुछ काम किया नहीं. लोगों से संवाद तक समाप्त कर लिया. सिर्फ हवाई दौरे किए. इनकी पार्टी में झगड़े बढ़ गए. ये लोग आपस में ही उलझे रहे. पांच साल तक मुख्यमंत्री की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से बनी नहीं. अब अपनी कुर्सी बचाने के लिए उनके सामने झुक रही हैं. यदि जनता के काम कर उनके सामने झुकती तो ऐसी नौबत ही नहीं आती. पांच साल तक राजस्थान के लोगों ने बहुत पीड़ा झेली.बगैर पैसे किसी का काम होता ही नहीं था. किसी स्तर पर आमजन की सुनवाई नहीं होती.

कानून व्यवस्था नाम की चीज ही नहीं रही. दोपहर बाद उन्होंने हनुमानसिंह खांगटा के साथ मिलकर बीजेएस कॉलोनी में जनसंपर्क किया. इसके बाद वे महामंदिर धानमंडी पहुंचे. वहां पूर्व जेडीए चेयरमैन राजेंद्रसिंह सोलंकी के साथ मिलकर पैदल घूमकर जनसंपर्क किया. इस दौरान उनका कई स्थानों पर जोरदार स्वागत किया गया. उन्हें फूलमालाओं से लाद दिया गया. उनके समर्थन में नारेबाजी की गई.