जनसभा में विपक्षियों पर जमकर बरसे मुख्यमंत्री

गिरिडीह. झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि विपक्षी दलों के लोग भाजपा पर यह आरोप लगाते हैं कि भाजपा अमीरों को मदद पहुंचाने वाली पार्टी है. हां, बेरोजगार हमारे लिए अमीर हैं, बिना घर वाले हमारे लिए अमीर हैं, बिना
शौचालय वाले हमारे लिए अमीर हैं, किसान हमारे लिए अमीर हैं और इन अमीरों के उत्थान के लिए हमने योजनाओं को धरातल पर उतारा.

रघुवर दास मंगलवार को गिरिडीह के झंडा मैदान में कोडरमा लोकसभा क्षेत्र की भाजपा उम्मीदवार अन्नपूर्णा देवी के नामांकन से पूर्व एक जनसभा में बोल रहे थे. उन्होंने कांग्रेस की न्याय योजना लागू करने की मंशा पर प्रहार करते हुए कहा कि वर्षों से कांग्रेस गरीबी हटाओ की बात करती रही है लेकिन कांग्रेस ने इसके उन्मूलन के लिए क्या किया?

दास ने कहा कि कोडरमा लोकसभा क्षेत्र के मतदाता इस बात को अवश्य समझें कि यह देश की तकदीर बदलने वाला चुनाव है. मतदाताओं को गरीबी, उग्रवाद, आतंकवाद को समाप्त करने की इच्छा शक्ति रखने वाली सरकार का चुनाव करना है. उन्होंने कहा कि जिस प्रकार 2014 में वंशवाद को नकारकर लोकतंत्र को मजबूत किया और एक चाय बेचने वाले को प्रधानमंत्री बनाया, उसी प्रकार 2019 में भी आप लोकतंत्र को मजबूती प्रदान करें. यह सपना तभी साकार होगा जब मोदी सत्ता में आएंगे.

यह भी पढ़े: लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में 32 नामांकन पत्र दाखिल किए गए

भ्रष्टाचारियों का गठबंधन

मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्षी गठबंधन भ्रष्टाचारियों का गठबंधन है. यह गठबंधन सिर्फ नरेंद्र मोदी को हटाने के लिए है. इन्हें भ्रष्टाचार में महारत हासिल है. इन्हें डर है कि अगर नरेंद्र मोदी दोबारा सत्ता में आ गए तो इनका स्थान जेल में होगा.
उन्होंने जनता से सवाल किया कि क्या एक शेर का मुकाबला सियारों का समूह कर सकता है. दास ने कहा कि सरकारें आती जाती रहेगी, लेकिन देश सर्वोपरि है. उन्होंने आतंकियों का समर्थन करने वाली पार्टियों को बैलट के माध्यम से
करारा जवाब देने की अपील की.

हिम्मत नहीं आदिवासी क्षेत्र से चुनाव लड़े

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की पांच सीटें आरक्षित हैं लेकिन मुख्यमंत्री रह चुका एक उम्मीदवार सामान्य सीट यानी कोडरमा से चुनाव लड़ रहे हैं. उन्हें हिम्मत नहीं है कि आदिवासी क्षेत्र में जाकर चुनाव लड़े. क्योंकि आदिवासी जनता ऐसे लोगों को पहचान चुकी है, जो आदिवासी विकास की बात तो करते हैं लेकिन इसे धरातल पर नहीं उतारते. इन्हें सिर्फ एक दूसरे से लड़ाना आता है. अगर हिम्मत है तो आदिवासी क्षेत्र से चुनाव लड़ते. फिर पता चलता कि आदिवासी हित में इन्होंने
कितना कार्य किया है.

नमन करता हूं आपकी शहादत को

मुख्यमंत्री ने कहा कि विगत साढ़े चार साल में सीआरपीएफ और स्थानीय बल के अथक प्रयास से उग्रवाद की कमर टूट चुकी है. इन जवानों के प्रयास से ही राज्य में शांति का वातावरण कायम हो पाया है. विगत दिनों गिरिडीह की मुठभेड़ में
शहीद जवान का स्मरण करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इनकी बदौलत ही राज्य में अमन चैन कायम है. आपके शौर्य को भी नमन कि आपने शांति भंग करने वाले तीन नक्सलियों को मार गिराया. इस अवसर पर अन्नपूर्णा देवी सहित कई
भाजपा नेता उपस्थित थे.