हरियाणा में बिछा दूंगा रेल का जाल : मनोहर लाल

हरियाणा में बिछा दूंगा रेल का जाल : मनोहर लाल-Panchayat Times

गुरुग्राम. मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि कुण्डली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेस-वे के साथ-साथ पलवल से सोनीपत तक रेल क्नेक्टिविटी के लिए विस्तरित परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार की जा रही है. यह एक प्रकार से इक्नोमिक कोरिडोर बनने जा रहा है. मुख्यमंत्री बुधवार देर शाम को गुरुग्राम में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे.

 दिल्ली से हिसार के बीच बिछेगी फास्ट ट्रैक लाइन

मुख्यमंत्री कहा कि हिसार में एयरपोर्ट बना है, वैसे तो दिल्ली और हिसार के बीच रेलवे लाईन है लेकिन दिल्ली से हिसार के बीच फास्ट ट्रैक रेलवे लाईन बिछाने की योजना है. फंडिंग का प्रबंध हुआ तो पूरे हरियाणा में रेल का जाल बिछा देंगे.  एचआरआईडीसी द्वारा यमुनानगर से चंडीगढ़ वाया नारायणगढ़-सढोरा, सोहना-नूंह-अलवर, फरूखनगर-झज्जर-चरखी दादरी, करनाल-यमुनानगर, जींद-हिसार तथा भिवानी-लोहारू नई रेल लाईने बिछाने की परियोजना की फिजिब्लिटी स्टडी करवाई जा रही है.

बसई धनकोट में बनेगा नया रेलवे स्टेशन

पूरे प्रोजेक्ट के बारे में एचआरआईडीसी के प्रबंध निदेशक दिनेश चंद देशवाल ने कंपनी की गतिविधियों के बारे में विस्तार से बताया और कहा कि आज स्टेक होल्डर्स की कार्यशाला का शुभारंभ लोक निर्माण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव आलोक निगम द्वारा किया गया था. उन्होंने एक प्रजेन्टेशन के माध्यम से बताया कि ओरबिट रेल कोरिडोर आईएमटी सोहना के पास से गुजरेगा और मानेसर में मारूति प्लांट को डायरेक्ट क्नेक्टिविटी देगा जिससे कि मारूति गाड़ियां ढोने के लिए प्रयोग किए जाने वाले लंबे ट्रालों से निजात मिलेगी. इसी प्रकार, सुल्तानपुर में नया स्टेशन तथा बसई-धनकोट में भी नया स्टेशन बनाया जाना प्रस्तावित है.

अब दिल्ली नहीं फरीदाबाद-गुरुग्राम से सीधे चंडीगढ़ जाएगी ट्रेन

सीएम खट्टर ने कहा कि इस कोरिडोर की लागत को सभी स्टेक होल्डर्स को मिलकर जुटाना है. स्टेक होल्डर्स में भारतीय रेल, हरियाणा सरकार के अलावा, मारूति सुजुकि, काॅनकोर, डैडिकेटिड फे्रट कोरिडोर, एचएसआईआईडीसी, माॅडल इक्नोमिक टाउनशिप लिमिटिड (पूर्व में रिलायंस हरियाणा एसईजैड लिमिटिड), ऑल कारगो सहित कई उद्योग तथा वितीय संस्थाएं शामिल हैं. ओरबिटल रेल कोरिडोर बनने से गुरूग्राम और फरीदाबाद शहरों से शताब्दी ट्रेन सीधी चण्डीगढ़ जाएगी, इसके लिए दिल्ली नहीं जाना पड़ेगा. वर्तमान में गुरूग्राम और फरीदाबाद से चंडीगढ़ जाने के लिए दिल्ली से शताब्दी पकड़नी पड़ती है.