सीएम रघुरवर दास सितंबर में किसानों को देने जा रहे हैं ये तोहफा

सीएम रघुरवर दास सितंबर में किसानों को देने जा रहे हैं ये तोहफा-Panchayat Times
साभार इंटरनेट

रांची. मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि पिछले साढ़े 4 साल में सरकार के प्रति आम जनता का विश्वास बढ़ा है. देश के गांव, गरीब, किसान, महिला एवं नौजवान के जीवन में बदलाव लाने का कार्य सरकार ने किया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश तीव्र गति से विकास कर रहा है.

रविवार को रघुवर दास रांची जिले के ओरमांझी प्रखंड स्थित राजकीयकृत मध्य विद्यालय परिसर पांचा में पौधरोपण कार्यक्रम के दौरान ये सब बातें कही.

देश और झारखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में खुशहाली लाना प्रधानमंत्री की सोच रही है. किसानों के चेहरे पर मुस्कुराहट हो इसके लिए केंद्र सरकार की ओर से पीएम किसान योजना एवं राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना लागू करने का कार्य किया है.

सरकार वह जो जनता का दुख-दर्द समझे और उसे दूर करेंः जेपी नड्डा

35 लाख किसानों को मिलेगा लाभ

मुख्यमंत्री दास ने कहा कि सितंबर 2019 से राज्य के 35 लाख किसानों को मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना का लाभ मिलना शुरू होगा. आने वाले 3 महीनों के भीतर सरकार कि ओर से राज्य के 35 लाख किसानों के खाते में डीबीटी के माध्यम से योजना की राशि उपलब्ध कराई जाएगी. झारखंड के किसानों को सरकार द्वारा 5 हजार करोड़ की राशि उनके विकास के लिए खर्च की करेगी.

महिला सशक्तिकरण पर विशेष जोर

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में वर्तमान सरकार के गठन के बाद से ही महिला सशक्तिकरण पर विशेष जोर रहा है. वर्ष 2014 से अब तक राज्य में 1 लाख 90 हजार से भी अधिक सखी मंडलों का गठन किया गया. इन सखी मंडलों को रोजगार के विभिन्न आयामों से जोड़ने का भी प्रयास किया गया और रोजगार उपलब्ध कराए गए. राज्य में गठित सखी मंडलों के आर्थिक विकास के लिए सरकार द्वारा 500 करोड़ रुपए का बजट रखा गया है. इस बड़ी राशि से इनके आर्थिक विकास को गति मिलेगी. अब राज्य सरकार ने यह निर्णय लिया है कि आने वाले समय में आंगनबाड़ी केंद्रों में रेडी टू ईट का सप्लाई सखी मंडल की बहनें ही करेंगी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सच है कि हमारा झारखंड बहुत ही समृद्ध राज्य है, लेकिन यह एक सच्चाई भी है कि समृद्ध राज्य की गोद में गरीबी भी पल रही है. राज्य सरकार झारखंड में पल रही इस गरीबी को दूर करने के लिए प्रतिबद्ध प्रयास कर रही है.