सीएनजी चलित बसों को शीघ्र ही ‘हरित कॉरिडोर’ पर चलाया जाएगा

सीएनजी चालित बसों को शीघ्र ही ‘हरित कॉरिडोर’ पर चलाया जाएगा
पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेन्‍द्र प्रधान

नई दिल्ली. पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस और कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री धर्मेन्‍द्र प्रधान ने शनिवार को नई दिल्‍ली में इन्‍द्रप्रस्‍थ गैस लिमिटेड (आईजीएल) की विभिन्‍न डिजिटल ग्राहक पहलों का शुभारंभ किया. इन पहलों में सीएनजी कतार प्रबंधन प्रणाली (क्‍यूएमएस) और सोशल सीआरएम भी शामिल हैं.

प्रदूषण स्‍तर में कमी लाने के लिए ‘सीओपी-21’ में भारत की ओर से व्‍यक्‍त की गई प्रतिबद्धता का उल्‍लेख करते हुए प्रधान ने घोषणा की कि ‘हरित गलियारों (ग्रीन कॉरिडोर)’ का अनावरण शीघ्र ही किया जाएगा. उन्‍होंने कहा कि अगले वर्ष फरवरी तक टाइप-IV सिलेंडरों का उपयोग करने वाली सीएनजी बसों का परिचालन दिल्‍ली-चंडीगढ़, दिल्‍ली-आगरा, दिल्‍ली-हरिद्वार और दिल्‍ली-जयपुर मार्गों पर शुरू हो जाएगा.

पर्यावरण स्‍वच्‍छ होगा

उन्‍होंने एथनॉल मिश्रण और बायो-सीएनजी सहित गैस के उत्‍पादन एवं उपयोग को बढ़ावा देने के लिए की गई. विभिन्‍न पहलों का उल्‍लेख किया, जिनकी बदौलत देश इस मामले में और ज्‍यादा आत्‍मनिर्भर हो जाएगा, आयात बिल घट जाएगा और पर्यावरण स्‍वच्‍छ होगा.

प्रधान ने विभिन्‍न पहलों के लिए आईजीएल को बधाई देते हुए कहा कि इस कंपनी ने अपनी शुरुआत से लेकर वर्ष 2014 तक सिर्फ 4.5 लाख पीएनजी कनेक्‍शन मुहैया कराए थे, लेकिन उसके बाद से लेकर अब तक इस दिशा में बड़ी तेजी से प्रगति हुई है. केवल साढ़े चार वर्षों में ही एक मिलियन कनेक्‍शन का जादुई आंकड़ा हासिल कर लिया गया है. उन्‍होंने कहा कि पीएनजी कनेक्‍शनों के लिए प्रतीक्षा अवधि घटकर औसतन सिर्फ एक सप्‍ताह रह गई है.

राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में रहने वाले लोग अब स्‍वच्‍छ, सुविधाजनक एवं किफायती ईंधन का उपयोग कर रहे हैं. प्रधान ने कहा कि इससे यह पता चलता है कि बढ़ती मांग को पूरा करने के प्रति कंपनी कितनी संवेदनशील, सक्रिय और गंभीर है. इसके साथ ही यह ‘न्‍यूनतम सरकार, अधिकतम गवर्नेंस’ का भी परिचायक है.

ईंधन की बर्बादी थम जाएगी

‘क्‍यूएमएस’ का शुभारंभ करने के लिए आईजीएल द्वारा की गई पहल की सराहना करते हुए प्रधान ने कहा कि इससे सीएनजी स्‍टेशनों या केन्‍द्रों पर वाहनों की लम्‍बी-लम्‍बी कतारों की समस्‍या से निपटना संभव हो जाएगा, समय की बचत होगी और अपनी बारी की प्रतीक्षा करने वाले वाहनों में ईंधन की बर्बादी थम जाएगी. इससे ईंधन के रुप में सीएनजी का इस्‍तेमाल करने वाले वाहन चालकों को सहूलियत होगी और उनकी आमदनी बढ़ जाएगी. उन्‍होंने देश में शहरी गैस वितरण (सीजीडी) नेटवर्क का शुभारंभ कर इस मोर्चे पर बड़ी छलांग लगाने के लिए पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस नियामक बोर्ड (पीएनजीआरबी) को भी बधाई दी, क्‍योंकि इससे देश में लगभग 400 जिलों में पाइपलाइन के जरिए गैस आपूर्ति सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी.

प्रधान ने कहा कि देश में सीजीडी नेटवर्क में 70,000 करोड़ रुपए निवेश किए जा रहे हैं. सरकार ने घरेलू क्षेत्र में गैस आपूर्ति किए जाने को सर्वोच्‍च प्राथमिकता प्रदान की है और यह आयातित मूल्‍य के बजाय घरेलू मूल्‍य पर घरेलू गैस मुहैया कराने की दिशा में सरकार द्वारा लिए गए आरंभिक निर्णयों में से एक है. प्रधान ने कहा कि देशभर में 1500 सीएनजी स्‍टेशन या केन्‍द्र हैं और अगले 4-5 वर्षों में सीएनजी केन्‍द्रों की संख्‍या बढ़कर 10,000 के स्‍तर पर पहुंच जाने की आशा है.

सीएनजी चालित बसों को शीघ्र ही ‘हरित कॉरिडोर’ पर चलाया जाएगा
उद्यमिता मंत्री धर्मेन्‍द्र प्रधान

‘ऊर्जा’ मोबाइल एप के जरिए काम करने वाली सीएनजी कतार प्रबंधन प्रणाली से वाहन चालकों को किसी भी सीएनजी स्‍टेशन के साथ-साथ उसके निकटवर्ती सीएनजी स्‍टेशन पर औसत प्रतीक्षा अवधि के बारे में सूचना मिल जाएगी. चालक वाहनों की तीन बड़ी श्रेणियों यथा बसों, कारों एवं ऑटो की प्रतीक्षा अवधि के बारे में जानकारी पा सकेंगे. वाहन चालक निकटवर्ती सीएनजी केन्‍द्र के साथ-साथ वाहनों की तीन श्रेणियों की प्रतीक्षा अवधि के बारे में भी जानकारी पा सकेंगे. यह एप आरंभ में 10 दिनों तक आमंत्रण के जरिए उपलब्‍ध होगा और 1 जनवरी, 2019 से इसे डाउनलोड किया जा सकेगा.

टेक्‍नोलॉजी प्‍लेटफॉर्म ‘सोशल सीआरएम’ ग्राहकों द्वारा विभिन्‍न सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्मों जैसे कि फेसबुक, ट्विटर और इंस्‍टाग्राम पर पूछे जाने वाले प्रश्‍नों, सेवा अनुरोधों, दर्ज कराई जाने वाली शिकायतों का निपटान करेगा. इसका इस्‍तेमाल विभिन्‍न विचारों के विश्‍लेषण के जरिए शिकायत निपटान प्रक्रिया पर करीबी नजर रखने में भी किया जा सकेगा.

आईजीएल ने अपने परिचालन क्षेत्रों यथा दिल्‍ली, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद और रेवाड़ी में एक मिलियन (10 लाख) घरेलू पीएनजी ग्राहकों का आंकड़ा भी पार कर लिया है. कंपनी ने 10 लाख ग्राहक के साथ-साथ अन्‍य ग्राहकों और लकी ड्रॉ प्रक्रिया के जरिए चयनित कुछ विशेष वाहन चालकों का भी अभिनंदन किया. सीएनजी ग्राहकों के लिए शुरू की गई आईजीएल स्‍मार्ट कार्ड योजना के विजेताओं का भी अभिनंदन इस अवसर पर किया गया.