हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी के कारण बढ़ी ठंड, लाहौल-स्पीति में सबसे ज्यादा ठंड

हिमाचल में फिर बदला मौसम,तीन जिलों का पारा माइनस में-Panchayat Times

शिमला. हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी के कारण लोग भीषण सर्दी का प्रकोप झेल रहे हैं. पहाड़ी इलाकों में तापमान में भारी गिरावट आने से कड़ाके की ठंड पड़ रही है. आलम यह है कि शिमला सहित आधा दर्जन शहरों का पारा माइनस में पहुंच गया है. पर्यटन स्थल कुफरी तो मनाली और जनजातीय क्षेत्र कल्पा से भी ज्यादा सर्द हो गया है.यहां पारा शून्य से काफी नीचे चला गया है. मौसम विभाग के मुताबिक आने वाले चार दिनों में मौसम के साफ रहने से ठंड के कहर से कुछ हद तक राहत मिलने की उम्मीद है.


जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति में सबसे ज्यादा ठंड पड़ी, जहां के मुख्यालय केलंग में बुधवार को न्यूनतम तापमान -5.7 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ.शिमला दूसरा सबसे ठंडा जिला रहा. शिमला के पर्यटक स्थल कुफरी में पारा -4.4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया और यहां कल्पा व मनाली से भी ज्यादा सर्दी पड़ी. कल्पा में न्यूनतम तापमान -3.5, डलहौजी में -2.2, मनाली में -1.8  और शिमला में -1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. इसके अलावा धर्मशाला में 1.4, पालमपुर में 2.5, मंडी में 4.1, चंबा में 4.6, भुंतर में 4.9, कांगड़ा में 5.7, सुंदरनगर में 5.8, बिलासपुर में 8, हमीरपुर में 8.2, नाहन में 8.8 और ऊना में 8.9 डिग्री सेल्सियस रहा.

बीते 24 घंटों के दौरान खदराल में 46, कुफरी व कोठी में 45, कल्पा में 26, ठियोग में 22, डलहौजी में 16, सुमडो और मशोबरा में 15, केलंग, शिमला, गोहर और सराहन में 10, जुब्बल में 9, मनाली में 8, भरमौर में 7, छतराड़ी में 6, बिजाहि, जनझेली और रोहड़ू में 5 सेंटीमीटर बर्फबारी हुई। इस अवधि में सोलन में सर्वाधिक 60 मिमी वर्षा हुई, जबकि राजगढ़ में 56, घुमारवीं और धर्मशाला में 50, बंजार में 48 और पालमपुर में 47 मिमी बारिश हुई.

मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि आगामी तीन फरवरी तक समूचे प्रदेश में मौसम के साफ रहने का अनुमान है, जिससे तापमान में सुधार होगा. पर्वतीय क्षेत्रों में 4 फरवरी को फिर बर्फबारी हो सकती है, जबकि मैदानी इलाकों में मौसम साफ बना रहेगा.