देश में कोरोना वायरस अभी दूसरे चरण में, अब तक 150 से ज्यादा मामले आये सामने, 5700 लोगों पर कड़ी नजर

देश में कोरोना वायरस अभी दूसरे चरण में, अब तक 150 से ज्यादा मामले आये सामने, 5700 लोगों पर कड़ी नजर - Panchayat Times

नईदिल्ली. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार दुनिया भर में कोरोना वायरस से अब तक 7,529 लोगों की मौत हो चुकी है. भारत में कोरोना वायरस के मरीजों का आंकड़ा 150 के पार पहुंच गया है. इन 150 से ज्यादा मामलों में 127 भारतीय नागरिक और 25 विदेशी नागरिक हैं.

इनमें सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र से हैं जहां से 41 मामले अब तक सामने आ चुके हैं. जबकि केरल में इसकी संख्या 27 पहुंच गई है. इसके अलावा उत्तर प्रदेश में 17, दिल्ली में 10, कर्नाटक से 13 मामले सामने आए हैं. जो 25 विदेशी इसकी चपेट में हैं उनमें से 14 को हरियाणा में 2 राजस्थान में और 1 को उत्तर प्रदेश में रखा गया है. देश में कोरोना वायरस ने बुधवार यानी आज 13 और लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है.

कुल केस 152 भारतीय 127 विदेशी 25
राज्य कुल संख्या भारतीय विदेशी
महाराष्ट्र 41 38 3
केरल 27 25 2
हरियाणा 16 2 14
दिल्ली 10 9 1
उत्तर प्रदेश 17 16 1
कर्नाटक 13 13 0
राजस्थान 4 2 2
लद्दाख 8 8 0
तमिलनाडु 1 1 0
जम्मू-कश्मीर 3 3 0
पंजाब 1 1 0
तेलंगाना 6 4 2
आंध्र प्रदेश 1 1 0
ओडिशा 1 1 0
उत्तराखंड 1 1 0
पश्चिम बंगाल 1 1 0

5,700 पर करीब से नजर

कोरोना वायरस को देखते हुए संक्रमित लोगों के संपर्क में आए 5,700 से अधिक लोगों पर स्वास्थ्य विभाग की पैनी नजर है.

276 भारतीय विदेश में संक्रमित

आज लोकसभा में एक प्रश्न का लिखित उत्तर देते हुए विदेश मंत्रालय ने बताया कि 276 भारतीय विदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित हैं, जिनमें ईरान में 255, यूएई में 12, इटली में 5, और हांगकांग, कुवैत, रवांडा और श्रीलंका में 1-1 शामिल हैं.

Indians with Corona positive in foreign

प्राइवेट लैब में फ्री कोरोना टेस्ट

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने प्राइवेट लैब को भी इस बीमारी की जांच का अधिकार देने का फैसला किया है. प्राइवेट लैब से यह जांच फ्री में करने और संक्रमण फैलने से रोकने के लिए घर से ही सैंपल उठाने का आग्रह किया गया है.

अभी सरकार इस टेस्ट को फ्री में कर रही है. वे प्राइवेट लैब ही जांच कर सकेंगी, जहां इसके लिए क्वालिफाइड डॉक्टर और पैथॉलजिस्ट, टेस्ट के लिए जरूरी किट और बायो सेफ्टी जैसे अनिवार्य इंतजाम हों. मान्यता प्राप्त प्राइवेट सेक्टर की 60 लैब के नाम जल्द जारी होंगे.

आज से वैष्णो देवी यात्रा बंद, अंतरराज्यीय बसों पर भी प्रतिबंध

जम्मू और कश्मीर सरकार के सूचना और जनसंपर्क विभाग के अनुसार माता वैष्णो देवी यात्रा आज से बंद कर दी गई है. जम्मू-कश्मीर से आने और जाने वाली सभी अंतरराज्यीय बसों के परिचालन पर भी आज से प्रतिबंध लगा दिया गया है.

कोरोना संक्रमित जवान के सहयोगियों को एकांतवास (Quarantine) में रखा गया

लद्दाख में कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए सेना के जवान के साथियों को एकांतवास में रखा गया है. सेना के सूत्रों के अनुसार भारतीय सेना ने लद्दाख स्काऊट्स के सभी सैनिकों और पॉजिटिव जवान के सहयोगियों को एकांतवास में रखा है. वहीं, उनकी पत्नी, बहन सहित अन्य परिजनों को भी एकांतवास में रखा गया है.

भारत अभी कोरोना वायरस के दूसरे स्टेज पे

भारत अभी कोरोना वायरस (Coronavirus) के दूसरे स्टेज में है. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के मुताबिक, स्टेज-2 का अर्थ है कि अभी वायरस का कम्युनिटी ट्रांसमिशन (लोगों के बीच आपस में नहीं फैला है) नहीं हुआ है. अभी 159 से ज्यादा देश कोरोना वायरस से प्रभावित है. भारत कोशिश कर रहा है कि वह कोरोना वायरस के स्टेज-3 में नहीं पहुंचे.

Corona Virus awareness bill board

आईसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने बीते मंगलवार को कहा, “हम कोरोना वायरस के दूसरे चरण में हैं. हम तीसरे चरण में अभी नहीं पहुंचे हैं. तीसरा चरण कम्युनिटी ट्रांसमिशन है, हम उम्मीद कर रहे हैं कि यह स्थिति नहीं आनी चाहिए.”

उन्होंने कहा, “यह इस बात पर निर्भर करता है कि हम कितनी जल्दी अपनी अंतरराष्ट्रीय सीमा को बंद करते हैं, इसी वजह से सरकार ने बहुत सक्रिय रूप से कदम उठाए हैं, लेकिन हम यह नहीं कह सकते हैं कि कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं होगा.”

जानिए चारों स्टेज के बारे में

स्टेज 1

इस स्थिति में संक्रमण के मामले वायरस से प्रभावित देशों (जहां ये पहले फैल चुके है) से आते हैं. इसमें वहीं लोग संक्रमित पाए जाते हैं जिन्होंने विदेश की यात्रा की होती है.

स्टेज 2

जब संक्रमित लोगों से बीमारी का फैलाव स्थानीय लोगों में होता है. उदाहरण के लिए, जब कोई वायरस से प्रभावित देश में यात्रा करता है और अपने रिश्तेदारों या जानकारों के संपर्क में आता है, जिससे वे भी संक्रमित हो जाते हैं. इस स्थिति में स्थानीय फैलाव से बहुत कम लोग प्रभावित होते हैं. इस स्थिति में वायरस का कारण पता होता है और उसे आसानी से खोजा जा सकता है.

स्टेज 3

जब वायरस एक आदमी से दुसरे में फैलने लगता है तो इससे बहुत बड़ा क्षेत्र प्रभावित होता है. इस स्टेज में यह बीमारी भारत के अंदर मौजूद संक्रमित लोगों से यहीं के दूसरे लोगों में फैलने लगेगी. यह बेहद खतरनाक स्थिति है. इस स्टेज में टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए लोग यह नहीं जानते हैं कि उनमें वायरस कहां से आया है. इटली और स्पेन अभी इसी चरण में हैं.

स्टेज 4

यह सबसे भयावह स्थिति है, जब बीमारी महामारी को रूप ले लेती है और यह स्पष्ट नहीं होता है कि इसका खात्मा कब होगा. चीन में ऐसा ही हुआ है.