कोरोना: 5,66,840 पॉजिटिव मामले जबकि 16,893 की मौत, 80 करोड़ लोगों को नवंबर तक मिलेगा मुफ्त अनाज

कोरोना: 5,66,840 पॉजिटिव मामले जबकि 16,893 की मौत, 80 करोड़ लोगों को नवंबर तक मिलेगा मुफ्त अनाज - Panchayat Times
File photo

नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 18,522 नए मामले सामने आए हैं और 418 लोगों की मौत हुई है. 

इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 5,66,840 हो गई है, जिनमें से 2,15,125 सक्रिय मामले हैं, 3,34,822 लोग ठीक हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और अब तक 16,893 लोगों की मौत हो चुकी है.

एक दिन में की गई दो लाख से ज्यादा नमूनों की जांच : आईसीएमआर

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने कहा कि 29 जून तक 86,08,654 नमूनों की जांच की जा चुकी है जिनमें से 2,10,292 नमूनों का कल परीक्षण किया गया. 

एक जुलाई से लागू होगा अनलॉक का दूसरा चरण

केंद्र सरकार ने सोमवार को अगले चरण के अनलॉक के लिए दिशानिर्देश जारी किए. इसका उद्देश्य आर्थिक गतिविधियों को और बढ़ावा देना और सामान्य जीवन को फिर से शुरू करने की अनुमति देना है. यह देश में अनलॉक का दूसरा चरण है. गृह मंत्रालय द्वारा जारी नए दिशानिर्देश एक जुलाई से लागू हो जाएंगे.

प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना टीके को लेकर की उच्च-स्तरीय बैठक की अध्यक्षता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कोरोना के टीके को लेकर की जा रही तैयारियों की समीक्षा के लिए एक उच्च-स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अधिकारियों को समय पर टीकाकरण सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न प्रौद्योगिकी उपकरणों का मूल्यांकन करने का निर्देश दिया. प्रधानमंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि इस तरह के बड़े पैमाने पर टीकाकरण के लिए विस्तृत योजना तत्काल की जानी चाहिए.

बैठक में भारतीय और वैश्विक टीका विकास प्रयासों की वर्तमान स्थिति की भी समीक्षा की गई. प्रधानमंत्री ने कोरोना के खिलाफ वैश्विक टीकाकरण प्रयासों में सक्षम भूमिका निभाने के लिए भारत की जिम्मेदारी और प्रतिबद्धता पर भी प्रकाश डाला.

प्रधानमंत्री मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधन में जानिए क्या-क्या कहाः-

देश में कोरोना के प्रकोप के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का राष्ट्र के नाम यह छठा संबोधन था. प्रधानमंत्री मोदी ने लगभग 16 मिनट का संबोधन किया. इस दौरान उन्होंने कोरोना को केंद्र में रखा और लोगों से लापरवाही न करने की अपील की. इससे पहले पीएम मोदी ने 12 मई को देश को संबोधित किया था. इस दौरान उन्होंने 20 लाख करोड़ रुपये के वित्तीय पैकेज की घोषणा की थी.

कोरोना से लड़ते-लड़ते अनलॉक-2 में प्रवेश कर रहे हैं

वर्षा ऋतु के बाद कृषि क्षेत्र में ज्यादा काम होता है

जुलाई से धीरे-धीरे त्योहारों का भी माहौल बनता है

प्रत्येक परिवार को हर महीने पांच किलो गेहूं या चावल और एक किलो चना दिया जाएगा.

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार नवंबर तक

इसमें 90 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च होंगे 

पिछले महीने का खर्च भी जोड़ दें तो करीब 1.5 लाख करोड़ हो जाता है

80 करोड़ लोगों को नवंबर तक मुफ्त अनाज मिलेगा

एक देश-एक राशन कार्ड की दिशा में बढ़ रहे हैं

किसानों ने देश के लिए अन्नभंडार को भर दिया है

कोरोना पर दुनिया की तुलना में भारत संभली हुई हालत में

अनलॉक -1 के बाद से लापरवाही बढ़ती जा रही है

समय पर किए गए लॉकडाउन से हमारी स्थिति अच्छी

लोगों को लॉकडाउन के दौरान सतर्कता बरतनी होगी

लापरवाही बरतने वाले लोगों को समझाएं

मास्क नहीं लगाने पर एक देश के प्रधानमंत्री पर जुर्माना लगा

गांव का प्रधान हो या देश का पीएम कानून सब के लिए बराबर

कोरोना से लड़ते हुए भारत में 80 करोड़ लोगों को तीन महीने का राशन मुफ्त दिया गया है