पहाड़ों की गोद में बसे हिमाचल प्रदेश की खूबसूरती किसी से छुपी नहीं है. पहाड़ और बर्फ यहां की खूबसूरती को चार चांद लगाते हैं. यही वजह है कि हिमाचल प्रदेश पर्यटकों को हमेशा आकर्षित करता रहा है. लेकिन यही पहाड़ कभी-कभी मुसीबत में भी डाल देते हैं. हिमाचल में कई सड़कें ऐसी हैं, जिसपर ज़रा सी भी चूक का मतलब है जान से हाथ धो बैठना.

कई जगह पर ऐसे रास्ते हैं जहां किसी भी वहां से चलने में डर लगता है. आज हम हिमाचल के कुछ ऐसे ही खतरनाक रास्तों के बारे में जानेंगे. जो खतरनाक तो हैं लेकिन फिर भी इस रोड से पर्यटक गुजरते हैं. ऐसा इस लिए क्योंकि ये रास्ते टूरिस्ट प्लेस तक जाते हैं.

किन्नौर

हिमाचल के किन्नौर में काफ़ी सकरी सड़क है. चट्टानों से घिरी इन सड़कों की घुमावदार मोड़ इसे और खतरनाक बनाती हैं. एक ओर चट्टान और दूसरी ओर गहरी खाई डराने के लिए काफ़ी है. यहां चट्टानों को काटकर रास्ता बनाया गया है.

बाक़ी जगहों की बनिस्बत हिमाचल के पहाड़ काफ़ी खतरनाक है. ऐसा इसलिए क्योंकि यहां के पहाड़ मिट्टी के बने हुए हैं. यह कभी भी ऊपर से चलती गाड़ियों पर आकर गिर जाते हैं, जिससे बड़ा हादसा हो जाता है.

यहां कई हादसों में लोगों को जान गंवानी पड़ी है. थोड़ी सी बारिश के बाद यहां की सड़क कीचड़ से भर जाती है. सर्दी के मौसम में यह और खतरनाक हो जाता है. वहीं घुमावदार तीव्र मोड़ पहले से ही खतरे को दावत दे रही होती है.

लेह-मनाली हाईवे

दोनों ओर बर्फ से घिरा यह हाइवे को देखने में जितना ख़ूबसूरत दिखता है, उतना खतरनाक भी है. हाईवे के दोनों ओर पहाड़ है जिनपर बर्फ लदी रहती है. बर्फ से ढके हुए इन पहाड़ों के बीच से यात्रा करना भारी मुश्किलों भरा है.

गाटा लूप्स

मनाली-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग पर खतरनाक घुमावदार चक्करों वाले हेयर पिन बेंड को गेटा लूप्स कहा जाता है. इसे भारत का सबसे खतरनाक रास्ता भी माना जाता है. सीधे चढ़ाई वाले पहाड़ बड़े पहाड़ बहुत ही डरावने से लगते हैं. भूस्खलन के कारण यहां के रास्ते महीनों बंद रहते हैं. 180 डिग्री के घुमावदार रास्ते को हेयर पिन बेंड कहा जाता है.

वैसे इस जगह से एक और रोचक कहानी जुड़ी हुई है. कहते हैं इस जगह पर भूतों का साया रहता है. यहां से गुजरने वाल लोग इस भूत के स्थान पर मिनरल वाटर और सिगरेट रखकर ही आगे का सफर तय करते हैं. मनाली-लेह मार्ग पर 16616 फीट की ऊंचाई पर स्थित लचुलुंगला के पास 22 मोड़ से गुजरने वाला हर वाहन चालक यहां के भूत मंदिर में पानी की एक बोतल जरूर चढ़ाता है.

रोहतांग पास

दुनिया की सबसे ऊंची चलने वाली रोड है. यह दर्रा समुद्र स्‍तर से 4111 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है जहां से मनाली का शानदार दृश्‍य दिखाई पड़ता है. यह भी सबसे खतरनाक सड़कों में से एक है. रोहतांग पास का रास्ता गहरी खाई से होकर गुजरता है. यहां वाहन आसानी से नहीं चलाया जा सकता.

बर्फ गिरने से यह मार्ग बंद हो जाता है. जिससे काफ़ी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. बर्फ के बीच में गाड़ी को चलाना किसी भी ड्राइवर के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है.

कल्पा

कल्पा में भी खतरनाक सड़कें हैं. यहां तो रैलिंग भी नहीं है. ऐसे में चालकों को खुद ही ऐहतियात बरतनी पड़ती है. इन पर वाहन चलाना किसी चुनौती से कम नहीं है. ये तो कुछ हिमाचल की सबसे खतरनाक सडकों में से एक हैं. हिमाचल में ऐसी और भी कई जगह हैं, जहां ज़रा सी सावधानी हटने पर बड़ा हादसा तैयार रहता है.