मानसून सत्र में शराब प्रकरण पर गतिरोध समाप्त

मानसून सत्र में शराब प्रकरण पर गतिरोध समाप्त-Panchayat Times
साभार इंटरनेट

ऊना. ऊना सदर के कांग्रेस विधायक से जुड़े शराब प्रकरण पर हिमाचल विधानसभा में सतापक्ष व विपक्ष के बीच चल रहा गतिरोध बुधवार को समाप्त हो गया. मुख्यमंत्री ने विपक्ष को आश्वस्त किया कि इस पूरे मामले की आईजी की देखरेख में सीआईडी निष्पक्ष जांच करेगी.  ऊना के एसपी का जांच प्रक्रिया में कोई हस्तक्षेप नहीं रहेगा. उन्होंने सदन को अवगत करवाया कि ऊना के एसपी 28 अगस्त से 4 सितम्बर तक प्रशिक्षण के लिए हिमाचल से बाहर जाएंगे.

मुख्यमंत्री के जवाब से संतुष्ठ विपक्ष ने प्रश्नकाल में हिस्सा लिया और  मानसून सत्र में पहली बार सदन की कार्यवाही सुचारू तरीके से चली. इससे पूर्व मानसून सत्र की पिछली दो बैठकों में विपक्ष ने इस मुद्दे पर भारी हंगामा करते हुए सदन से वाकआउट किया था. मुख्यमंत्री ने आज सदन में फिर दोहराया कि माफिया के खिलाफ सब को एकजुट होना चाहिए. उन्होंने जोर देकर कहा कि माफिया राज को खत्म करने में सफलता तभी मिलेगी जब राजनीति से ऊपर उठकर काम करेंगे.

सतपाल रायजादा प्रकरण पर विधानसभा में दूसरे दिन भी हंगामा, विपक्ष का वाकआउट

उन्होंने साफ किया कि माफिया के खिलाफ कार्रवाई करने का अभियान जारी रहेगा. उन्होंने इसमें विपक्ष से भी सहयोग की उम्मीद जताई. कहा कि विधायक संस्थान का सम्मान करना हमारा दायित्व है.

उन्होंने कहा कि ऊना सदर के कांग्रेस विधायक सतपाल रायजादा प्रकरण से संबंधि मामले को सीआईडी की अपराध शाखा को सौंपा गया है. जांच आईजी स्तर के अधिकारी की देखरेख में होगी. ऊना के एसपी से वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को इस जांच का काम करेंगे. एसपी ऊना 28 अगस्त से 4 सितम्बर तक अनिवार्य प्रशिक्षण पर जा रहे हैं. लिहाजा इस जांच में वर्तमान एसपी की भूमिका नहीं रहेगी. मुख्यमंत्री ने विपक्ष पर तंज कसा कि जब विपक्ष बाहर जाता है तो बुरा लगता है और जब सामने रहते हैं तो अच्छा लगता है.

इससे पहले सदन की कार्यवाही शुरू होते हुए नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री ने भले ही इस प्रकरण के जांच के आदेश दिए हैं. लेकिन मसला ऊना के एसपी का है. उन्होंने कहा कि एसपी ऊना को छुट्टी पर भेजा जाए, या बर्खास्त किया जाए. उन्होंने सलाह दी कि विपक्ष को बार-बार माफिया से जोड़ने से गुरेज करना चाहिए. उन्होंने इस बात पर आपति जताई कि मुख्यमंत्री ने पिछले दिनों सदन में कहा था कि विपक्ष को शराब की चिंता है, बाढ़ व बरसात से हुए नुकसान की नहीं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस विधायक दल हर तरह के माफिया के खिलाफ है. सरकार माफिया के खिलाफ बेझिझक होकर कार्रवाई करे.

उल्लेखनीय है कि ऊना पुलिस ने बीते 13 अगस्त को ऊना में कांग्रेस विधायक सतपाल रायजादा के चालक व निजी सुरक्षा अधिकारी सहित पांच लोगों को शराब की तस्करी के आरोप में गिरफ्तार किया था. विपक्ष ने इस मुद्दे को कांग्रेस विधायक सतपाल रायजादा के आत्मसम्मान से जोड़ते हुए विधानसभा में भारी हंगामा किया था.