बकरी ने चखा जहर और मर गए दो किसान

गुमला. जिले के घाघरा प्रखंड के मकरा कठरटोली गांव में मृत बकरी का विषाक्त मांस...
प्रतीक चित्र

गुमला. जिले के घाघरा प्रखंड के मकरा कठरटोली गांव में मृत बकरी का विषाक्त मांस खाने से जेठू उरांव (55) और पांचा उराइन की मौत हो गयी जबकि आठ लोग बीमार हो गए. ग्रामीणों के सहयोग से गंभीर रूप से बीमार पड़े नागों उरांव (55 ) व पांचा उराइन (50) को सामुदायिक स्वास्थ केंद्र लाया गया. प्राथमिक उपचार के बाद दोनों की गंभीर स्थिति देख चिकित्सकों ने बेहतर इलाज के लिए गुमला सदर अस्पताल रेफर कर दिया, जहां इलाज के क्रम में पांचा उराइन की मौत हो गयी. इधर सूचना मिलते ही पुलिस ने विषाक्त मांस खाकर बीमार केश्वर लोहरा (50) उसकी पत्नी बिरसमुनि (45), दिनेश लोहरा (22), स्कूली छात्र विजय लोहरा (10), पूजा कुमारी (8), अजय लोहरा (6), दिलबन्धु लोहरा (15) और दीपक लोहरा (3) को इलाज के लिए सीएचसी घाघरा पहुंचाया.

ये भी पढ़ें- सिमडेगा में इस गांव को मिला प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम का दर्जा

जानकारी के अनुसार बुधवार शाम कठरटोली निवासी दिलीप उरांव के खेत में लगे मकई को खाने से एक बकरी की मौत हो गयी थी. खेत में कीटनाशक दवा का छिड़काव किया गया था. इसके कारण फसल भी जहरीली हो गई थी. मकई खाने से मरी बकरी को जेठू उरांव सहित अन्य ग्रामीण अपने घर ले जाकर उसका मांस बनाकर दोपहर करीब तीन बजे खाया . शाम तक सभी की हालत ठीक ही थी. सभी रात्रि में भी खाना खाकर अपने अपने घरों में सो गए. गुरूवार सुबह जब जेठू को उठाने अन्य ग्रामीण गए तो वह मृत पड़ा हुआ था. वहीं नागों उरांव व उसकी पत्नी पांचा उराइन बेसुध होकर घर में पड़ी हुई थी. ग्रामीणों ने 108 एम्बुलेंस के सहारे बीमार लोगों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र घाघरा पहुंचाया गया. घटना के बाद घाघरा पुलिस कठरटोली पहुंच आवश्यक कार्रवाई में जुट गई है.