डेंगू के प्रकोप से परवाणु में दहशत

बिलासपुर में डेंगू के 20 नए मामले- Panchayat Times
प्रतीक चित्र

दून (सोलन). औद्योगिक क्षेत्र परवाणु पर डेंगू मच्छरों का आतंक है. डेंगू मच्छरों के कारण लगभग 26 रोगी दो माह में डेंगू मच्छरों का शिकार हो चुके हैं और यह संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है. रोज परवाणु की ओपीडी में लगभग दस मरीज बुखार से ग्रस्त हो कर ईएसआई अस्पताल पहुंच रहे हैं. जिसके चलते अब स्वास्थ्य विभाग और परवाणु नगर परिषद हरकत में आया है. बीते बुधवार से परवाणु में मच्छरों को मारने के लिए फोगिंग की जा रही है और सफाई रखने के लिए आदेश दे दिए गए है क्षेत्र के उद्योगों को भी अलर्ट किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें- कंधों के सहारे प्रसूता को लाओ, पर डॉक्टर नहीं मिलेगा, ये है हिमाचल का ‘बंजार’

अधिक जानकारी देते हुए जिला स्वास्थ्य अधिकारी एन.के. गुप्ता ने कहा कि परवाणु में पिछले काफी वर्षों से डेंगू का मच्छर पनप रहा है जो फोगिंग करने के बाद भी पूरी तरह से खत्म नहीं होता है. यही कारण है कि परवाणु में डेंगू के मामले ज्यादा आते हैं. उन्होंने कहा परवाणु में उद्योग होने की वजह से गंदगी ज्यादा फैलती है और सफाई करने के लिए उद्योगपत्तियों का उन्हें सहयोग नहीं मिलता है लेकिन इस बार स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से अलर्ट है और परवाणु में एपिडेमिक एक्ट लगा दिया गया है जिसके तहत अगर उद्योगपति उनका सहयोग नहीं देंगे तो उन पर भी सख्त कार्रवाई की जाएगी.

क्षेत्र की सफाई भी ठीक से नहीं

पिछले तीन सालों में परवाणु में डेंगू मच्छरों का प्रकोप है लेकिन उसके बावजूद भी नगर परिषद परवाणु की नींद नहीं टूटी है और यही वजह है कि फोगिंग मशीन तो दूर वह परवाणु क्षेत्र की सफाई भी ठीक से नहीं कर पा रही है. स्वास्थ्य विभाग ने कई बार नगर परिषद को फोगिंग मशीन खरीदने के निर्देश दिए है लेकिन उसके बावजूद भी नगर परिषद टांग पर टांग रख कर शहर वासियों को बिमार होता देख रहा है.