प्रदेश के विभिन्न सात निवेश कर्ताओं को प्रमाण पत्र वितरित

चंडीगढ़. हरियाणा की उद्यम प्रोत्साहन नीति, 2015 के अंतर्गत प्रदेश के विभिन्न सात निवेश कर्ताओं को विशेष पैकेज अनुदान पत्र और पात्रता प्रमाण पत्र वितरित किए गए. नई दिल्ली स्थित हरियाणा भवन में बुधवार को उद्योग एवं वाणिज्य विभाग, हरियाणा के अतिरिक्त प्रधान सचिव देवेन्द्र सिंह ने यह प्रमाण पत्र वितरित किए.

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के प्रयासों से उद्योगों के अनुकूल जो माहौल बना है. उसका नतीजा है कि प्रदेश औद्योगिक विकास के मामले में नए आयाम स्थापित कर रहा है. देवेन्द्र सिंह ने कहा कि उद्यम प्रोत्साहन नीति के तहत विशेष पैकेज में विद्युत शुल्क में छूट, रोजगार सृजन अनुदान, बाहरी विकास शुल्क में छूट और स्टांप शुल्क की वापसी शामिल हैं.

उन्होंने बताया कि हरियाणा सरकार कि ओर से उद्यम प्रोत्साहन नीति, 2015 के अंतर्गत राज्य में डी श्रेणी क्षेत्रों में 100 करोड़ रुपए से अधिक प्रत्यक्ष निवेश या 200 से अधिक प्रत्यक्ष रोजगार सृजित करने वाले निवेशकर्ता उद्यमों और बी और सी श्रेणी क्षेत्रों में 100 करोड़ रुपए से अधिक प्रत्यक्ष निवेश या 500 से अधिक प्रत्यक्ष रोजगार सृजित करने वाले निवेशकर्ता उद्यमों को विशेष पैकेज में प्रोत्साहन के रूप मे अनुदान प्रदान किया जाता है.

आज जिन निवेशकर्ताओं को विशेष पैकेज अनुदान पत्र और पात्रता प्रमाण पत्र वितरित किए गए. उनमें कंधारी बेवरेज प्राइवेट लिमिटेड अंबाला, पैनासोनिक इंडिया प्राइवेट लिमिटेड झज्जर, एनरिच एग्रो फूड प्रोडक्ट प्राइवेट लिमिटेड आई एम टी रोहतक, स्टारवायर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड पंचकूला, एटोटेक डेवलेपमेंट सेंटर प्राइवेट लिमिटेड आई एम टी, मानेसर गुरूग्राम और कप कोंस प्राइवेट लिमिटेड,धारूहेड़ा, रेवाड़ी आदि शामिल हैं.