क्या आइसक्रीम खाने से भी फैलता है कोरोना वायरस? जानिए इसपर क्या है विश्व स्वास्थ्य संगठन की राय

क्या आइसक्रीम खाने से भी फैलता है कोरोना वायरस? जानिए इसपर क्या है विश्व स्वास्थ्य संगठन की राय - Panchayat Times
For representation purpose only

नई दिल्ली. कोरोना वायरस से जुड़ी कई अफवाहें इस वक्त सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं. हाल ही में एक अफवाह आइसक्रीम को लेकर भी वायरल हुई है. जिसमें दावा किया जा रहा है कि आइसक्रीम और ठंडे पदार्थ के सेवन से कोविड-19 फैलता है.

इस दावे को सरकार ने पूरी तरह खारिज कर दिया है. इसे लेकर पीआईबी ने भी ट्वीट कर कहा, ‘विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ये साफ कहा है कि इस दावे के समर्थन को लेकर कोई भी वैज्ञानिक सबूत नहीं है.’

पीआईबी ने किया ट्वीट

पीआईबी ने ट्वीट में कहा, ऐसी जानकारी वायरल हो रही है कि आइसक्रीम और अन्य ठंडी चीजें खाने से कोरोना वायरस संक्रमण फैल सकता है. इनमें कोई सच्चाई नहीं हैं.’

बता दें कि कोरोना वायरस संक्रमण फैलने के बाद से ही कई अफवाहें सोशल मीडिया पर आए दिन वायरल हो रही हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी एक पेज कोरोना वायरस से संबंधित फैल रही अफवाहों को लेकर रखा है. जिसमें सच्चाई बताई जाती है और लोग जागरुक होते हैं.

इन दावों को भी डब्लूएचओ किया खारिज

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने ये भी कहा है, ‘सूप या अन्य खाने में काली मिर्च डालना न तो कोविड-19 को रोकता है और न ही ठीक करता है.’ इससे पहले डब्ल्यूएचओ ने ये भी स्पष्ट किया था कि कोरोना वायरस मक्खियों के माध्यम से नहीं फैलता है और इसे सूरज की रोशनी या शरीर पर कीटाणुनाशक का छिड़काव करके ठीक नहीं किया जा सकता है.

डब्लूएचओ ने मच्छर के काटने को कोरोना वायरस से जोड़ने वाली अफवाहों को भी खारिज कर दिया है. इसके अलावा ये भी स्पष्ट किया है कि गर्म पानी से स्नान करने या फिर अधिक तापमान से कोरोना वायरस खत्म नहीं होता है.