बेहतर शिक्षा व स्वास्थय की बेहतरी के लिए बड़ी लकीर खींचने की कवायद तेज

बेहतर शिक्षा व स्वास्थय की बेहतरी के लिए बड़ी लकीर खींचने की कवायद तेज-Panchayat Times

मेदिनीनगर. पलामू जिले में कृषि कार्य को बढ़ावा दिया जाएगा. पारंपरिक खेती से हटकर कुछ नए फसल लगवाने को लेकर पलामू जिला प्रशासन ने कवायद शुरू कर दी है. एक ओर जहां स्ट्रोबेरी, ब्रोकली, शिमला मिर्च व बेबी कॉर्न की खेती के लिए पौधा क्रय करने की तैयारी चल रही है.

वहीं दूसरी ओर वेजिटेबल व फ्रूट डिहाइड्रेटर लगाने की योजना का चयन एवं अनुमोदन कर दिया गया है. उक्त निर्णय उपायुक्त  शशि रंजन की अध्यक्षता में आयोजित विशेष केंद्रीय सहायता की जिला स्तरीय समिति की बैठक में ली गई.

 बैठक में इसका  अनुमोदन किया गया. उपायुक्त ने पलामू में कृषि कार्य को विकसित करने के अलावा सिंचाई सुविधा देने और यहां बेहतर शिक्षा व स्वास्थय की भी परिकल्पना करते हुए इसकी बेहतरी के लिए बड़ी लकीर खीची है.  
बैठक में 30 आंगनबाड़ी केंद्रों को मॉडर्न प्ले स्कूल के रूप में विकसित करने हेतु प्रस्ताव का चयन एवं अनुमोदन किया.  पांच स्मार्ट विद्यालयों में मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया। उपायुक्त ने जिले 5 गांवों में तरल अपशिष्ट प्रबंधन प्रणाली का चयन एवं अनुमोदन किया.

 
इसके अलावा सेनेटरी नैपकिन का निर्माण, उसका वितरण एवं बिक्री के एजेंडे पर चर्चा के बाद अनुमोदित किया गया, रोजगार के साथ पलामू में माहवारी स्वच्छता प्रबंधन हो सके और स्वस्थ पलामू निर्माण की दिशा में आगे बढ़ा जा सके.


बैठक में स्मार्ट विलेज का चयन करने संबंधित चर्चा की गई. साथ ही मल्टी लेयर फार्मिंग के अंतर्गत विशेष केंद्रीय सहायता से अनुपूरक राशि पर चर्चा के लिए सहयोग की आवश्यकता बताई गई. 
 सूदूरवर्ती गांवों में संपर्क स्थापित करने हेतु प्राथमिकता के आधार पर पुल व पुलिया का निर्माण कराने के प्रस्ताव का चयन एवं अनुमोदन किया गया.

उपायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा करते हुए कहा कि पलामू वासियों को बेहतर स्वाथ्य सुविधाएं उपलब्ध कराना जिला प्रशासन की प्राथमिकता है. इसके लिए सभी को सक्रियता से कार्य करने की आवश्यकता है. उन्होंने सिविल सर्जन को  200 बेड खरीदने की स्वीकृति प्रदान की. इसमें 10-10 बेड सीएचसी को भी उपलब्ध कराए जाएंगे.