हिमाचल पंचायत चुनाव : कोरोना के चलते पंचायतों की वोटर लिस्टें तैयार होने में लग रहा है समय

बिहार : पंचायत चुनाव में इस बार हो सकता है EVM का प्रयोग
For representational purpose only Source :- Internet

शिमला. हिमाचल में जनवरी तक पंचायती चुनाव होने है. इसी को लेकर राज्य में जोर-शोर से तैयारियां चल रही हैं. लेकिन कोरोना महामारी के चलते अबकि बार चुनाव आयोग के काम में कई बाधाएं उतपन्न हो रही है.

समाचारों के अनुसार राज्य के मंडी और बिलासपुर जिलों में तय समय पर वोटर लिस्टें तैयार करने को लेकर हाथ खड़े कर दिए हैं. दोनों ही जिलों के चुनाव अधिकारियों ने हिमाचल चुनाव आयोग को इस असमर्थता से अवगत भी करा दिया है.

दोनों जिलों में सॉफ्टवेयर की समस्या

बताया जा रहा है कि दोनों जिलों में सॉफ्टवेयर की समस्या से देरी हो रही है. वहीं, शिमला के उपायुक्त और जिला पंचायत अधिकारी भी कोरोना संक्रमण की चपेट में हैं. राज्य चुनाव आयोग के आयुक्त, सचिव सहित पांच अधिकारी और कर्मचारी भी होम क्वारंटीन हैं. आयोग के लिए काम कर रही एनआईसी महिला कर्मचारी भी कोरोना संक्रमित हैं. ऐसी स्थिति में यहां भी वोटर लिस्टों को अंतिम रूप देने में तय समय से अधिक वक्त लगना स्वाभाविक है.

2,740 पंचायतों की वोटर लिस्टें फाइनल

आयोग ने पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव कराने से पहले 2,740 पंचायतों की वोटर लिस्टें फाइनल कर दी हैं. इन पंचायतों की वोटर लिस्टों की छपाई का काम भी शुरू कर दिया है. ये वही पंचायतें हैं, जिन पर पुनर्गठन का कोई असर नहीं पड़ा है.

दूसरे चरण में चुनाव आयोग ने 875 पुनर्गठन से प्रभावित और नई पंचायतों की वोटर लिस्टों को फाइनल करना है. इन सभी पंचायतों की वोटर लिस्टें तैयार करने में आयोग के दिए समय से ज्यादा वक्त लगेगा.