11 राज्यों की 56 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव की घोषणा, 3 व 7 नवंबर को वोटिंग, 10 नवंबर को गिनती, सबकी नजर मध्य प्रदेश पर जहां 28 सीटों पर उपचुनाव

12 राज्यों की 56 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव की घोषणा, 3 व 7 नवंबर को वोटिंग, 10 नवंबर को गिनती, सबकी नजर मध्य प्रदेश पर जहां 28 सीटों पर उपचुनाव - Panchayat Times12 राज्यों की 56 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव की घोषणा, 3 व 7 नवंबर को वोटिंग, 10 नवंबर को गिनती, सबकी नजर मध्य प्रदेश पर जहां 28 सीटों पर उपचुनाव - Panchayat Timesv

नई दिल्ली. भारत निर्वाचन आयोग ने मंगलवार को देश के 12 राज्यों की 56 विधानसभा सीटों और 1 लोकसभा सीट पर उपचुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है. आयोग के अनुसार बिहार के 1 संसदीय क्षेत्र (वाल्मीकि नगर) और मणिपुर की 2 विधानसभा सीटों पर उप-चुनाव 7 नवंबर को होंगे.

वहीं छत्तीसगढ़, गुजरात, झारखंड, कर्नाटक, मध्‍य प्रदेश, नागालैंड, उड़ीसा, तेलंगाना, उत्‍तर प्रदेश और हरियाणा के 54 विधानसभा क्षेत्रों के उप-चुनाव 3 नवंबर को होंगे. इन सभी सीटों पर होने वाले मतदान की मतगणना बिहार चुनाव के साथ 10 नवंबर को होगी.

मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर उपचुनाव पलट सकती है सत्ता

मध्य प्रदेश में 22 सीटों से ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थकों ने इस्तीफा देकर कांग्रेस की कमलनाथ सरकार मार्च में गिरा दी थी, जबकि दो सीटें भाजपा विधायकों के निधन से खाली हुई हैं. हाल ही में कांग्रेस का दामन छोड़कर तीन विधायकों प्रद्युम्न सिंह लोधी, सुमित्रा देवी और नारायण पटेल ने इस्तीफा देकर भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली थी. इस तरह राज्य में 27 विधानसभा सीटें अभी खाली है.

शिवराज, ज्योतिरादित्य और कमलनाथ की साख दांव पर

मध्य प्रदेश में भाजपा अपनी सत्ता बचाने और कांग्रेस नेता कमलनाथ छह महीने पहले हाथ से निकली सत्ता को वापस पाने की लड़ाई लड़ रहे हैं. इस उपचुनाव में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया की साख भी दांव पर लगी है, क्योंकि जिन 28 सीटों पर उपचुनाव हो रहा है उनमें 16 सीटें सिंधिया के प्रभाव वाले ग्वालियर-चंबल क्षेत्र की है.

पहले 28 में से 27 पर कांग्रेस का था कब्जा

मध्य प्रदेश कि 28 सीटों में से 27 पर पहले कांग्रेस का कब्जा था. प्रदेश की 230 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत के लिए 116 सीटें होना जरूरी हैं. अगर भाजपा उपचुनाव में बेहतर प्रदर्शन करती है तो उसकी सरकार और स्थिर होगी. वहीं, दूसरी तरफ कांग्रेस की कोशिश है कि वह 20 या उससे ज्यादा सीटें जीत ले, जिससे की एक बार फिर प्रदेश में सत्ता पलट सकती है.

इन सीटों पर भी होंगे उपचुनाव

वहीं यूपी में मल्हनी, बांगरमऊ, देवरिया, टूण्डला, बुलंदशहर, घाटमपुर और नौंगाव सादात सीट पर चुनाव होंगे. यूपी की इन 8 सीटों में से 5 सीटें मौजूदा विधायकों के निधन के कारण खाली हुई हैं.

केरल, तमिलनाडु, असम और पश्चिम बंगाल की 7 सीटों पर इस समय उपचुनाव नहीं

चुनाव आयोग ने फैसला किया है कि केरल, तमिलनाडु, असम और पश्चिम बंगाल की 7 सीटों पर इस समय उपचुनाव नहीं कराया जाएगा. आयोग ने यह फैसला संबंधित राज्यों के अनुरोध के बाद किया. बयान में आयोग ने कहा कि उसे असम, केरल, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल के चुनाव अधिकारियों और मुख्य सचिवों से इस संबंध में जानकारी दी गई है.

आयोग ने कहा, ‘दिये गये तथ्यों को देखते हुए आयोग ने इस समय असम, केरल, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल विधानसभा की खाली सात सीटों पर उपचुनाव की घोषणा नहीं करने का फैसला किया है.’ इसके अलावा उत्तर प्रदेश की स्वार सीट पर भी उपचुनाव को लेकर फिलहाल कोई घोषणा नहीं की गई.

माध्यमPT Desk
शेयर करें