शिमला में नए रूटों पर दौड़ेगी इलेक्ट्रिक बसें

शिमला में नए रूटों पर दौड़ेगी इलेक्ट्रिक बसें-Panchayat Times
प्रतीक चित्र

शिमला. राजधानी में शिमला-सोलन रूट पर इलेक्ट्रिक बसों के सफल ट्रायल के बाद अब ये बसें शिमला शहर की सड़कों पर दौड़ते हुए नजर आएगी. राज्य पथ परिवहन निगम (एचआरटीसी) ने शिमला शहर में इन बसों को चलाने के लिए नए रूट निर्धारित किए हैं. जल्द इन रूटों पर इलेक्ट्रीकल बसें दौड़ना शुरू हो जाएंगी.

परिवहन पथ निगम शहर के सकुर्रलर रोड़ पर बस को क्लॉक वाइज और एंटी क्लॉक वाईज रूटों पर चलाएगा, जिससे शहर में आने वाला हर एक व्यक्ति इस बस में सफर कर सकेगा. निगम कि ओर से निर्धारित किए गए रूटों के अनुसार 26 फरवरी को शिमला सर्कुलर रोड़ पर क्लॉक वाइज बस चलाई जाएगी.

इस दिन यह बस ढली-भट्टाकुफर-मल्याणा- मैहली-खलीणी-आईएसबीटी-लक्कड़बाजार-संजौली बाईपास-ढली चलेगी. 27 फरवरी को शिमला शहर में यह बस उलटे रूटों पर चलेगी. यानी एंटी क्लॉक वाइज इन बसों को चलाया जाएगा. इसके तहत यह बस ढली-संजौली-बाईपास-लक्कड़ बाजार, आईएसबीटी-खलीनी- मैहली-मल्याणा-भट्टाकुफर-ढली चलेगी. इसके तहर 28 फरवरी को शहर के अंदर के मार्गों पर यह बस चलाई जाएगी. इस दिन ढली- संजौली- छोटा शिमला-ओल्ड बस स्टैंड-लक्कड़बाजार-संजौली-ढली बस चलेगी. 1 मार्च को बस का रूट ढली-संजौली-लक्कड़ बाजार -ओल्ड बस स्टैंड-छोटा शिमला-संजौली-ढली चलेगी. वहीं 2 मार्च को बस ओल्ड बस स्टैंड से न्यू शिमला सेक्टर-3 और 4 में बस को चलाया जाएगा.

आज से शिमले में चलेंगी इलेक्ट्रिक बसें

निगम अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार इलेक्ट्रिक बस शिमला में बेहतर रिस्पोंस दे रही है. वहीं अधिक बैटरी का भी खर्च नहीं हो रहा है. शिमला-सोलन रूट पर चली बस ने अच्छे तरीके से चढ़ाई व उतराई में चली. शिमला से सोलन के ट्रायल में 56 किलोमीटर के सफर में 12 प्रतिशत बैटरी खर्च की. वहीं पूरी दिन में चलने के बाद भी में बस में 11 प्रतिशत बैटरी शेष बस गई. वहीं इससे पहले ग्रामीण क्षेत्रों धामी व घणाहटटी के सिंगल रोड़ पर भी बस ने अच्छी प्रोफेमेंस दी। ग्रामीण क्षेत्रों का ट्रायल पूरी तरह से सफल रहा.

एचआरटीसी शिमला के क्षेत्रीय प्रबंधक देवासेन नेगी ने बताया कि शिमला-सोलन रूट के सफल ट्रायल के बाद अब इलैक्ट्रिक बस शिमला शहर के नए रूटों पर चलेगी. बस के लिए 2 मार्च तक रूट निर्धारित कर दिए हैं. इन रूटों के तहत इलैक्ट्रिक बस शहर के हर एक क्षेत्र में पहुंचेगी. 2 मार्च के बाद बस के नए रूट निर्धारित किए जाएंगे.