बिजली चोरी को घटाकर 15 प्रतिशत तक किया जाएगा: मुख्यमंत्री

बिजली चोरी को घटाकर 15 प्रतिशत तक किया जाएगा: मुख्यमंत्री
मनोहर लाल

चंडीगढ़. हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार ने अपने कार्यकाल के दौरान बिजली विभाग में लाइन लोसिस (टोका फंसाकर बिजली चोरी ) को 30 प्रतिशत से घटाकर 20 प्रतिशत किया गया है. अब इसे 15 प्रतिशत तक घटाकर करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है. उन्होंने कहा कि जल्द ही 5 प्रतिशत और बिजली चोरी को कम किया जाएगा.

मुख्यमंत्री शुक्रवार को विधानसभा में शीतकालीन सत्र के दौरान कांग्रेस के विधायक द्वारा उठाए गये प्रश्न का उत्तर दे रहे थे. उन्होंने कहा कि वर्तमान में बिजली निगमों में एक आईपीएस अधिकारी को लगाया गया है, जिसने बिजली विभाग में हो रही चोरी को कम किया है. यह चोरी भी एक प्रकार से अपराध है. उन्होंने कहा कि बिजली चोरी रोकना ही वर्तमान सरकार की प्राथमिकता है और जो कोई भी मिलीभगत करके इस प्रकार की चोरी करेगा, उसकी जांच की जाएगी.

उन्होंने कहा कि बिजली नें लगाए गए आईपीएस अधिकारी की बजह से ही जो इंटर स्टेट ट्रांसमिशन के नाम पर हर महीने एनटीपीसी को 25 करोड़ रुपए सरकार की ओर से दिया जा रहा था, उसे रोका गया और अब सरकार ने एनटीपीसी को 1102 करोड़ रुपए के रिफंड  के लिए लिखा है, क्योंकि एनटीपीसी का सयंत्र हरियाणा में ही है और दूसरे राज्यों में नहीं है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान सरकार ने फ्यूल सरचार्ज एडजेस्टमेंट (एफएसए) की दर में भी कमी की है, तो बिजली के टैरिफ में 4.75 रुपये से लेकर 2.50 रुपए प्रति यूनिट किया है. उन्होंने कहा कि वर्ष 1996 से आज तक के डिफाल्टर उपभोक्ताओं को बिल निपटान योजना के तहत 2000 करोड़ रुपए तक की छूट दी है.