बोकारो जिले की ऑरेंज जोन से निकलकर ग्रीन जोन में हुई एंन्ट्री !

बोकारो जिले की ऑरेंज जोन से निकलकर ग्रीन जोन में हुई एंन्ट्री !-Panchayat Times
साभार इंटरनेट

बोकारो. कोरोना वायरस से मुक्त बोकारो जिला अब ऑरेंज जोन से निकलकर ग्रीन जोन में प्रवेश कर गया है. 20 अप्रैल को अंतिम कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज की पुष्टि होने के बाद जिले में एक भी कोरोना मरीज नहीं मिला है. हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि होनी बाकि है.

कोरोना को लेकर ये है गाइडलाइन

कोरोना को लेकर जारी गाइडलाइन अनुसार ऑरेंज जोन जिले में 21 दिनों तक कोरोना पॉजिटिव मरीज की पुष्टि नहीं होने पर जिला ग्रीन जोन में शामिल हो जात है. हालांकि मामले पर अब सरकार की ओर से घोषणा का इंतजार है.

इस बाबत सिविल सर्जन डॉ. अशोक कुमार पाठक ने कहा है कि जारी गाइडलाइन मुताबिक बोकारो जिला ग्रीन जोन में प्रवेश कर चुका है.लेकिन, सरकार ही इसकी अधिकारिक घोषणा करती है.

10 में से 9 मरीज स्वस्थ्य होकर चले गए घर : जिले के गोमिया और चंद्रपुरा इलाके में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 10 तक पहुंच गई थी. जिसमें एक वृद्ध मरीज की मौत कोरोना के संक्रमण के कारण हुई थी. जिसके बाद बीजीएच में लाए गए सभी कोरोना मरीज के इलाज के बाद वह पूरी तरह से स्वस्थ्य हो गए। जिन्हे घर जाने की इजाजत दे दी गई है. फिलहाल बोकारो जेनरल अस्पताल में एक भी कोरोना संक्रमित मरीज नहीं है.

पांच अप्रैल को मिला था पहला मरीज

जिला में पहला कोरोना पॉजिटिव मरीज 5 अप्रैल को चंद्रपुरा के तेलो में मिला था. जिसके दो दिन बाद 8 अप्रैल को ही एक ही परिवार के तीन लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई. 10 अप्रैल को पिपराडीह गांव में एक कोरोना का मरीज मिला था. फिर गोमिया के साड़म में एक ही परिवार के 5 मरीजों में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई थी. इसी परिवार के एक सदस्य की मौत कोरोना से हुई थी. अंतिम मरीज के रूप में 20 अप्रैल को मृतक के एक परिजन में कोरोना की पुष्टि हुई थी.